Akkitam Achyutan Nambudiri/अक्कितम अच्युतन नम्बूदिरी
लोगों की राय

लेखक:

अक्कितम अच्युतन नम्बूदिरी

अक्कितम अच्युतन नम्बूदिरी

मलयालम भाषा के शीर्षस्थ कवि।

जन्म 18 मार्च, 1926 को केरल के पालक्काड जिले के कुमरनल्लूर गाँव में हुआ। प्रार‍‍म्भि‍क शिक्षा पिता और कुछ गुरुओं से पाई; संस्कृत, तमिल, अंग्रेजी आदि भाषाओं और गणित व ज्योतिष का अध्ययन  किया। लेकिन औपचारिक शिक्षा हाईस्कूल तक ही हो पाई।

आकाशवाणी के कालीकट और त्रिश्शूर केन्द्रों पर अर्से तक कार्य किया। केरल साहित्य अकादमी के उपाध्यक्ष रहे। अन्य कई संस्थाओं में भी अध्यक्षीय पदों पर रहे।

प्रमुख कृतियाँ : वीरवादम्, मन:साक्षीयुडे पुक्कल, इडिञ्ञपोलिञ्ञा लोकम,  वेण्णक्कल्लिंडे कथा व स्पर्शमणिकल (कविता-संग्रह) तथा इरुपदाम नूट्टांडिंडे इतिहास व  बलिदर्शनम (खंडकाव्य)। कविता, कहानी, नाटक, निबंध, संस्मरण, साक्षात्कार और अनुवाद की लगभग पचास पुस्तकें प्रकाशित।

केरल साहित्य अकादमी पुरस्कार (1972, 1998), साहित्य अकादेमी पुरस्कार (1973), मध्य प्रदेश सरकार का कबीर सम्मान (2006), केरल सरकार का एषुतच्छन सम्मान (2008) और ज्ञानपीठ पुरस्कार (2019) सहित अनेक पुरस्कारों से सम्मानित। पद्मश्री (2017) से भी नवाजे गए।

त्रिशंकु स्वर्ग

अक्कितम अच्युतन नम्बूदिरी

मूल्य: Rs. 150

  आगे...

 

  View All >>   1 पुस्तकें हैं|