Alka Saraogi/अलका सरावगी
लोगों की राय

लेखक:

अलका सरावगी

एक ब्रेक के बाद (अजिल्द)

अलका सरावगी

मूल्य: Rs. 150

अलका सरावगी का यह नया उपन्यास कॉरपोरेट इंडिया की तमाम मान्यताओं, विडम्बनाओं और धोखों से गुजरता है।   आगे...

एक ब्रेक के बाद (सजिल्द)

अलका सरावगी

मूल्य: Rs. 250

अलका सरावगी का यह नया उपन्यास कॉरपोरेट इंडिया की तमाम मान्यताओं, विडम्बनाओं और धोखों से गुजरता है।   आगे...

कलि कथा वाया बाइपास

अलका सरावगी

मूल्य: Rs. 395

युवा कथाकार अलका सरावगी का प्रथम उपन्यास कलि कथा वाया बाईपास

  आगे...

कहानी की तलाश में

अलका सरावगी

मूल्य: Rs. 125

लेखिका को सुंदरता और परिपूर्ण जीवन की तलाश है और उसी की तलाश में वह कहानी पा लेती है-   आगे...

कोई बात नहीं

अलका सरावगी

मूल्य: Rs. 400

मोटे तौर पर इसे शरीरिक रुप से कुछ अक्षम एक बेटे और उसकी माँ के प्रेम और दुःख की साझेदारी की कथा के रुप में देखा जा सकता है, पर इसका मर्म एक सुन्दर और सम्मानपूर्ण जीवन की आकांक्षा है, बल्कि इस हक की माँग है।

  आगे...

गाँधी और सरलादेवी चौधरानी : बारह अध्याय

अलका सरावगी

मूल्य: Rs. 299

  आगे...

जानकीदास तेजपाल मैनशन

अलका सरावगी

मूल्य: Rs. 175

जानकीदास तेजपाल मैनशन...   आगे...

तेरह हलफ़नामे

अलका सरावगी

मूल्य: Rs. 299

  आगे...

दूसरी कहानी

अलका सरावगी

मूल्य: Rs. 250

अलका सरावगी की कहानियों का दूसरा संग्रह दूसरी कहानी समकालीन कहानी के प्रचलित ढर्रे से अलग जाकर कहानी के लिए एक नई संभावना का संकेत है।

  आगे...

शेष कादम्बरी

अलका सरावगी

मूल्य: Rs. 400

एक भिन्न स्तर पर रूबी गुप्ता के अपने जीवन की कादम्बरी ढूँढने की प्रचेष्ठा होने के कारण शेष कादम्बरी एक ऐसी औपन्यासिक कृति है जिसमें जीवन और उपन्यास आपस में गड्ड-मड्ड हो जाते हैं। कादम्बरी शायद अपने खिलन्दड़ अन्दाज में नानी की कहानी के बारे में कह सकती है कि वह जीवन ही क्या, जिसमें उपन्यास न हो और वह उपन्यास क्या, जिसमें जीवन न हो।

  आगे...

 

  View All >>   10 पुस्तकें हैं|