Alok Puranik/आलोक पुराणिक
लोगों की राय

लेखक:

आलोक पुराणिक

नेकी कर, अखबार में डाल

आलोक पुराणिक

मूल्य: Rs. 195

कोई वक्त रहा होगा, जब नेकी दरिया में डाली जाती थी। कोई वक्त रहा होगा, जब साधु-संत प्रवचन करते थे   आगे...

बालम तू काहे न हुआ एन.आर.आई.

आलोक पुराणिक

मूल्य: Rs. 250

अगर सुदामा परदेश नहीं जाते, तो क्या इतने फेमस हो पाते ? नहीं। बालम, तू काहे न हुआ एन. आर. आई. आलोक पुराणिक का नया व्यंग्य संग्रह है।   आगे...

व्हाइट हाउस में रामलीला

आलोक पुराणिक

मूल्य: Rs. 450

समसामयिक जीवन और समाज के विभिन्न पक्षों पर तीखी निगाह से दृष्टिपात करते ये व्यंग्य-लेख निश्चय ही पाठकों को लम्बे समय तक याद रहेंगे।   आगे...

 

  View All >>   3 पुस्तकें हैं|