Kamleshdutt Tripathi/कमलेशदत्त त्रिपाठी
लोगों की राय

लेखक:

कमलेशदत्त त्रिपाठी

१९३६ में इलाहाबाद (उ.प्र.) मे जन्मे कमलेशदत्त त्रिपाठी भारत की संस्कृत रंगमंच परम्परा, नाट्य-शास्त्र और सौन्दर्य-शास्त्र के विशेषज्ञ और प्रमुख नाट्य-चिन्तक व बीएचयू वाराणसी के प्रोफेसर एमेरिटस हैं। उत्तर आधुनिक विश्व में संस्कृत रंगमंच को पुनर्नवा करने में आपकी केन्द्रीय भूमिका रही है। आपको सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय, वाराणसी द्वारा आचार्य की पदवी से सम्मानित किया गया है। आपने पं. छोटेलाल मालवीय से तबला भी सीखा है।

सन् २००७ से कमलेशदत्त जी इन्दिरा गांधी नेशनल सेंटर फॉर द आर्ट्स के सलाहकार रहे हैं। आपने कालिदास अकादेमी, उज्जैन के निर्देशक पद पर कार्य करते हुए संस्थान को संस्कृत अध्ययन और रंगमंच के एक अन्तरराष्ट्रीय केन्द्र के रूप में स्थापित किया है। आपने देश-विदेश के अनेक विश्वविद्यालयों में अतिथि प्रो. के रूप में वर्षों तक पढ़ाया है। आपने अनेक महत्त्वपूर्ण ग्रन्थों का अनुवाद और सम्पादन किया है। अनेक सम्मानों से विभूषित हुए कमलेशदत्त जी संगीत नाटक अकादेमी के फेलो भी रहे हैं।

अमरुशतकम्

कमलेशदत्त त्रिपाठी

मूल्य: Rs. 750

इस प्रसिद्ध ग्रंथ में ऐन्द्रियता और श्रृंगार की, प्रेम और रति की अपार सूक्ष्मताएँ और छबियाँ ऐसे अद्भुत काव्य-कौशल से उकेरी गयी हैं कि उनका मूल संस्कृत के अलावा हिन्दी अनुवाद में भी आस्वाद सम्भव है।

  आगे...

विक्रमाङ्कदेवचरितम्-महाकविबिल्हणविरचित

कमलेशदत्त त्रिपाठी

मूल्य: Rs. 150

  आगे...

 

  View All >>   2 पुस्तकें हैं|