Krishna Kumar/कृष्ण कुमार
लोगों की राय

लेखक:

कृष्ण कुमार

दिल्ली विश्वविद्यालय में शिक्षा के प्रोफेसर हैं और राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद के निदेशक रह चुके हैं। उन्हें लन्दन विश्वविद्यालय के इंस्टीट्यूट ऑफ एजूकेशन ने डी.लिट् की उपाधि प्रदान की है । 2011 में उन्हें ‘पद्मश्रीप्रदान की गई। शिक्षा सम्बन्धी लेखन के अलावा वह कहानियाँ, निबन्थ और संस्मरण भी लिखते हैं। उनकी अनेक पुस्तकें अंग्रेजी में हैं। कृष्ण कुमार बच्चों के लिए भी लिखते हैं।

कृष्ण कुमार की हिन्दी में प्रकाशित पुस्तकें -:

शिक्षा सम्बन्धी पुस्तकें : राज, समाज और शिक्षा; शिक्षा और जान; शैक्षिक जान और वर्चस्व; बच्चों की भाषा और अध्यापक; दीवार का इस्तेमाल; मेरा देश तुम्हारा देश।

कहानी और संस्मरण : नीली आँखों वाले बगुले, अब्दुल पलीद का छुरा, त्रिकाल दर्शन।

निबन्ध और समीक्षा : विचार का डर, स्कूल की हिन्दी, शान्ति का समर, सपनों का पेड़, रघुवीर सहाय रीडर।

बाल साहित्य : आज नहीं पढ़ूँगा, महके सारी गली गली (स्व. निरंकार देव सेवक के साथ सम्पादित), पूड़ियों की गठरी।

आज नहीं पढूँगा

कृष्ण कुमार

मूल्य: Rs. 95

  आगे...

चूड़ी बाजार में लड़की

कृष्ण कुमार

मूल्य: Rs. 350

  आगे...

पूड़ियों की गठरी

कृष्ण कुमार

मूल्य: Rs. 50

पूड़ियों की गठरी...   आगे...

मेरा देश तुम्हारा देश

कृष्ण कुमार

मूल्य: Rs. 300

‘मेरा देश, तुम्हारा देश’ यह उम्मीद जगानेवाली किताब है कि भारत और पाकिस्तान अपनी आजादी के साठ वर्ष बाद विभाजन की पीड़ादायी स्मृति से उबरकर शान्ति का रास्ता खोज सकते हैं।   आगे...

रघुवीर सहाय संचयिता

कृष्ण कुमार

मूल्य: Rs. 300

रघुवीर सहाय (1929–90) का एक रूप आधुनिक मिजाज के प्रतिनिधि का है, दूसरा आधुनिकता के समीक्षक का   आगे...

स्कूल की हिन्दी

कृष्ण कुमार

मूल्य: Rs. 200

  आगे...

 

  View All >>   6 पुस्तकें हैं|