Madhu Kankariya/मधु कांकरिया
लोगों की राय

लेखक:

मधु कांकरिया
जन्म : 23 मार्च, 1957 (कोलकाता)।

शिक्षा : एम.ए. (अर्थशास्त्र), डिप्लोमा (कंप्यूटर)।

कृतियाँ :

उपन्यास : खुले गगन के लाल सितारे, सलाम आख़िरी, पत्ताखोर।

कहानी-संग्रह : बीतते हुए, अंतहीन मरुस्थल, ...और अंत में ईशु : (...और अंत में ईशु, भरी दोपहरी के अँधेरे, महाबली का पतन, कीड़े, फैलाव, मुहल्ले में, कुल्ला, काली पैंट, महानगर की माँ, फाइल।)।

और अंत में ईशु

मधु कांकरिया

मूल्य: Rs. 120

यह पुस्तक समाज के मरणासन्न और पुनरुज्जीवित होने की समांतर कथा का वर्णन करती है   आगे...

खुले गगन के लाल सितारे

मधु कांकरिया

मूल्य: Rs. 395

लोग मर रहे हैं, ऊब रहे हैं, घुट रहे हैं, लेकिन विद्रोह नहीं करते क्योंकि वे जीवन से प्यार नहीं करते ।   आगे...

पत्ताखोर

मधु कांकरिया

मूल्य: Rs. 300

यह उपन्यास युवाओं में बढ़ती नशे और ड्रग्स की लत पर आधारित उपन्यास....

  आगे...

सलाम आखिरी

मधु कांकरिया

मूल्य: Rs. 200

समाज में वेश्या की मौजूदगी पर एक चिरन्तन सवाल...   आगे...

सेज पर संस्कृत

मधु कांकरिया

मूल्य: Rs. 250

यह उपन्यास बेधक, जुझारू, धैर्यवान और अन्ततः विद्रोही स्त्री की आन्तरिक पीड़ा का बड़ा ही मार्मिक विश्लेषण-अंकन करता है।   आगे...

 

  View All >>   5 पुस्तकें हैं|