Nand Chaturvedi/नन्द चतुर्वेदी
लोगों की राय

लेखक:

नन्द चतुर्वेदी

जन्म : 21 अप्रैल, 1923 को रावजी का पीपत्या (पहले राजस्थान में अब मध्य प्रदेश में)।

शिक्षा : एम.ए. (हिन्दी), बी.टी.।

कर्म-क्षेत्र : 1950 से 1955 तक गोविन्दराम सेकसरिया टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज में प्राध्यापक; 1956 से 1981 तक विद्याभवन रूरल इंस्टीट्यूट में हिन्दी प्राध्यापक।

लेखन : ब्रजभाषा में कविता लिखना प्रारम्भ किया। कविता के लिए पहला पुरस्कार बारह वर्ष की आयु में। राष्ट्र की स्वाधीनता और सामाजिक-आर्थिक गैर-बराबरियों को रेखांकित करते हुए घनाक्षरी, सवैया, पद, दोहा पदों में रचनाएँ। हिन्दी (खड़ी बोली) में चतुष्पदियों, गीत से लगाकर अतुकान्त-आधुनिक कविताओं का सृजन। ‘सप्तकिरण’, ‘राजस्थान के कवि’ (भाग 1), ‘इस बार’ (अध्यापकों का कविता संग्रह), ‘जयहिन्द’ (समाजवादी साप्ताहिक) से लेकर जनमन’, ‘जन-शिक्षण’, ‘मधुमतीतथा चिन्तन-प्रधान साहित्यिक पत्रिका बिन्दुका सम्पादन। माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की उच्च कक्षाओं के लिए कहानी तथा गद्य की अन्य विधाओं का संग्रह सम्पादन। राजस्थान साहित्य अकादमी के लिए प्रान्त के प्रख्यात रचनाकारों पर ‘मोनोग्राफलेखन।

प्रकाशित कृतियाँ : गा हमारी जिन्दगी कुछ गा, उत्सव का निर्मम समय, जहाँ उजाले की एक रेखा खींची है, यह समय मामूली नहीं, ईमानदार दुनिया के लिए, वे सोये तो नहीं होंगे (कविता संग्रह), शब्द संसार की यायावरी, यह हमारा समय, अतीत राग (गद्य), सुधीन्द्र (व्यक्ति और कविता), राजस्थान साहित्य अकादमी की पुरोधा श्रृंखला के अन्तर्गत प्रकाशित।

सम्मान : मीराँ पुरस्कारराजस्थान साहित्य अकादमी का सर्वोच्च पुरस्कार; बिहारी पुरस्कारके.के. बिड़ला फाउंडेशन; लोकमंगल, मुम्बई पुरस्कार; अखिल भारतीय आकाशवाणी सम्मान (श्रेष्ठ वार्ताकार) आदि।

यात्रा : छठे विश्व हिन्दी सम्मेलन, लन्दन में राजस्थान राज्य द्वारा भेजे गए प्रतिनिधि मंडल के सदस्य।

सम्प्रति : स्वतंत्र लेखन।

आशा बलवती है राजन्

नन्द चतुर्वेदी

मूल्य: Rs. 300

आशा बलवती है राजन' की कविताओं में आशा-निराशा के बीच फंसी जिंदगी का प्रज्वलन अनेक रूपों में व्यंजित है।   आगे...

जो बचा रहा

नन्द चतुर्वेदी

मूल्य: Rs. 400

प्रस्तुत पुस्तक संस्मरण और आलोचना के मिश्रण से बने लेखों का संग्रह है।   आगे...

यह हमारा समय

नन्द चतुर्वेदी

मूल्य: Rs. 300

पुस्तक में कई विषयों पर लिखे आलेख हैं जिनमें समय के दबावों, उनको समता और स्वतंत्रता के वृहत्तर उद्देश्यों में बदलने वाले आन्दोलनों की चर्चा है।   आगे...

साहित्य की व्यापक चिन्ताएँ

नन्द चतुर्वेदी

मूल्य: Rs. 395

  आगे...

 

  View All >>   4 पुस्तकें हैं|