Narendra/नरेन्द्र
लोगों की राय

लेखक:

नरेन्द्र

नरेन्द्र

भ्रष्टाचार

नरेन्द्र

मूल्य: Rs. 200

सत्ता की भूख और पैसे की प्यास समानुसार भिन्न-भिन्न प्रकार के तरीकों से मिटाई-बुझाई जाती है। स्वार्थ की अति से क्रमशः समाज में दुराचार, व्यापार में लालची लाभ व सरकार में निन्दनीय भ्रष्टाचार पैदा होता है।   आगे...

 

  View All >>   1 पुस्तकें हैं|