Ramvilas Sharma/रामविलास शर्मा
लोगों की राय

लेखक:

रामविलास शर्मा

जन्म : 10 अक्तूबर, 1912।

जन्म-स्थान : ग्राम : ऊँचगाँव सानी, जिला उन्नाव (उत्तर प्रदेश)।

शिक्षा : 1932 में बी.ए., 1934 में एम.ए. (अंग्रेजी), 1938 में पी-एच.डी. (लखनऊ विश्वविद्यालय)।

देहावसान : 30 मई 2000।

लखनऊ विश्वविद्यालय के अंग्रेजी विभाग में पाँच वर्ष तक अध्यापन-कार्य किया, सन् 1943 से 1971 तक आगरा के बलवंत राजपूत कॉलेज में अंग्रेजी विभाग के अध्यक्ष रहे। बाद में आगरा विश्वविद्यालय के कुलपति के अनुरोध पर के.एम. हिंदी संस्थान के निदेशक का कार्यभार स्वीकार किया और 1974 में अवकाश लिया।

सन् 1949 से 1953 तक रामविलासजी अखिल भारतीय प्रगतिशील लेखक संघ के महामंत्री रहे।

देशभक्ति तथा मार्क्सवादी चेतना रामविलासजी की आलोचना की केंद्र-बिन्दु हैं। उनकी लेखनी से वाल्मीकि तथा कालिदास से लेकर मुक्तिबोध तक की रचनाओं का मूल्यांकन प्रगतिवादी चेतना के आधार पर हुआ। उन्हें न केवल प्रगति-विरोधी हिंदी-आलोचना की कला एवं साहित्य-विषयक भ्रांतियों के निवारण का श्रेय है, वरन् स्वयं प्रगतिवादी आलोचना द्वारा उत्पन्न अंतर्विरोधों के उन्मूलन का गौरव भी प्राप्त है।

सम्मान : केंद्रीय साहित्य अकादेमी का पुरस्कार तथा हिंदी अकादेमी, दिल्ली का शताब्दी सम्मान, शलाका सम्मान, भारत भारती पुरस्कार, व्यास सम्मान। पुरस्कारों से प्राप्त राशि, शिक्षा प्रसार तथा पुस्तकालय के लिए वापस कर दी थी।

कृतियाँ :

उपन्यास : चार दिन।

नाटक : पाप के पुजारी।

अन्य गद्य साहित्य : भारतीय साहित्य की भूमिका, निराला की साहित्य साधना, भाग-1 जीवन चरित, भाग-2 कला तथा विचार धारा का विवेचन, भाग-3 पत्र-संग्रह, प्रेमचन्द और उनका युग, आचार्य रामचन्द्र शुक्ल और हिन्दी आलोचना, भारतेन्दु हरिश्चन्द्र और हिन्दी नवजागरण की समस्याएँ, भारतेन्दु-युग और हिन्दी भाषा की विकास-परम्परा, महावीरप्रसाद द्विवेदी और हिन्दी नवजागरण, नई कविता और अस्तित्ववाद, भारत की भाषा समस्या, भाषा और समाज, भारत के प्राचीन भाषा-परिवार और हिन्दी, भाग-1 आर्य भाषा केन्द्र और हिन्दी जनपद, भाग-2 इण्डो-यूरोपियन परिवार की भारतीय पृष्ठभूमि, भाग-3 नाग-द्रविड़-कोल और हिन्दी प्रदेश, परम्परा का मूल्यांकन, भारत में अंग्रेजी राज और मार्क्सवाद (दो खण्ड), मार्क्स और पिछड़े हुए समाज, घर की बात, भारतीय सौंदर्य-बोध और तुलसीदास, आस्था और सौंदर्य।

आचार्य रामचन्द्र शुक्ल और हिन्दी आलोचना

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 695

आचार्य रामचन्द्र शुक्ल और हिन्दी आलोचना...

  आगे...

आस्था और सौंदर्य

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 695

डॉ. रामविलास शर्मा की यह मूल्यवान आलोचनात्मक कृति भारोपीय साहित्य और समाज की क्रियाशील आस्था और सौंदर्य की अवधारणाओं का व्यापक विश्लेषण करती है

  आगे...

ऐतिहासिक भाषाविज्ञान और हिंदी भाषा

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 595

रामविलासजी ने विरोध का जोखिम उठाकर भी यह किया, जिसके प्रमाण इस पुस्तक में भी मिल सकते हैं।

  आगे...

कथा विवेचना और गद्यशिल्प

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 395

कथा औऱ कहानियों का साहित्यिक विश्लेषण   आगे...

गांधी, आम्बेडकर, लोहिया और भारतीय इतिहास की समस्याएँ

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 995

भारतीय इतिहास पर गाँधीजी, अम्बेडकरजी और लोहियाजी का प्रभाव   आगे...

चार दिन

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 95

चार दिन   आगे...

तीन महारथियों के पत्र

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 195

तीन महारथियों के पत्र   आगे...

नयी कविता और अस्तित्ववाद

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 695

  आगे...

निराला

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 495

  आगे...

निराला की साहित्य साधना : खंड-1-3

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 2985

निराला के व्यक्तित्व के जटिल और सूक्ष्म अन्तर्विरोधों से निःसृत कृतित्व का इस पुस्तक में मर्मस्पर्शी मूल्यांकन हुआ है जो अत्यन्त दुर्लभ तो है ही, बेमिसाल भी है।

  आगे...

परम्परा का मूल्यांकन

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 550

वस्तुतः इस कृति में, आधुनिक साहित्य के संदर्भ में, प्राचीन, मध्यकालीन और समकालीन भारतीय साहित्य का वर्णन हुआ है...

  आगे...

पाश्चात्य दर्शन और सामाजिक अन्तर्विरोध

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 750

  आगे...

प्रेमचंद

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 395

  आगे...

प्रेमचंद और उनका युग

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 700

इस पुस्तक में विद्वान लेखक ने प्रेमचंद की कृतियों का मूल्यांकन ऐतिहासिक सन्दर्भ और सामाजिक परिवेश की पृष्ठभूमि में किया है।   आगे...

बडे़ भाई

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 325

‘बड़े भाई’ ने अपने जीवन संघर्ष, पारिवारिक परिस्थिति, यात्रा विवरण और बातचीत के द्वारा मध्य वर्ग के जटिल संसार को रेखांकित किया है   आगे...

भारत की भाषा समस्या

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 695

भारत की भाषा समस्या भारत की भाषा-समस्या एक ज्वलंत राष्ट्रीय समस्या है।

  आगे...

भारत के प्राचीन भाषा परिवार और हिंदी भाग: खंड 1-3

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 2785

भाषाविज्ञान पर एक अप्रतिम और युगान्तरकारी ग्रन्थ।

  आगे...

भारत में अंग्रेज़ी राज और मार्क्सवाद : खंड-1

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 1500

यह ग्रन्थ अंग्रेज़ी राज के दौरान भारतीय जनता की साम्राज्यवाद-विरोधी संघर्ष- चेतना और उसके विरुद्ध रची गयी पेचीदा साजिशों का पहली बार प्रामाणिक विश्लेषण प्रस्तुत करता है।

  आगे...

भारत में अंग्रेज़ी राज और मार्क्सवाद : खंड-2

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 1500

  आगे...

भारतीय साहित्य की भूमिका

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 995

  आगे...

भारतीय सौंदर्य बोध और तुलसीदास

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 350

प्रस्तुत है भारतीय और यूरोपीय साहित्य, संस्कृति तथा दर्शन पर प्रकाश डाला गया है...   आगे...

भारतेंदु युग और हिंदी भाषा की विकास परम्परा

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 795

भारतेंदु युग हिंदी साहित्य का सबसे जीवंत युग रहा है।जिसमें उनकी राष्ट्रीय और जनवादी दृष्टि का उन्मेष है।

  आगे...

भारतेंदु हरिश्चंद्र और हिंदी नवजागरण की समस्याएं

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 595

वास्तव में भारतेन्दु साहित्य सम्बन्धी सभी पक्षों की प्रामाणिक जानकारी के लिए यह अकेली पुस्तक पर्याप्त है।

  आगे...

भाषा और समाज

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 895

  आगे...

महावीर प्रसाद द्विवेदी और हिन्दी नवजागरण

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 895

  आगे...

मार्क्स और पिछड़े हुए समाज

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 600

  आगे...

मार्क्स त्रोत्स्की और एशियाई समाज

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 250

  आगे...

सदियों के सोये जाग उठे

रामविलास शर्मा

मूल्य: Rs. 200

सदियों के सोये जाग उठे   आगे...

 

  View All >>   28 पुस्तकें हैं|