Shamsurrahman Farooqui/शम्सुर्रहमान फ़ारूक़ी
लोगों की राय

लेखक:

शम्सुर्रहमान फ़ारूक़ी

जन्म : 1935, आज़मगढ़ (उत्तर प्रदेश)।

शिक्षा : 1955 में इलाहाबाद विश्वविद्यालय से अंग्रेज़ी में एम.ए.। 1958 से 1994 तक भारतीय डाक सेवा में तथा अन्य पदों पर कार्य।

उर्दू तथा अंग्रेजी में 40 से अधिक किताबें प्रकाशित। साहित्येतिहास तथा साहित्यिक सिद्धांत में विशेष रुचि। हिन्दी में एक उपन्यास ‘कई चाँद थे सरे आस्माँ’ तथा आलोचना-ग्रन्थ ‘उर्दू का आरम्भिक काल’ विशेष रूप से चर्चित। अनेक लेखों के अनुवाद प्रकाशित।

1966 से 2005 तक उर्दू साहित्य को आधुनिक दिशा देनेवाली पत्रिका ‘शबख़ून’ के 299 अंकों का प्रकाशन। इसके माध्यम से अन्य भारतीय भाषाओं, विशेषकर हिन्दी की रचनाओं के उर्दू अनुवादों का प्रकाशन।

अनेक देशी-विदेशी विश्वविद्यालयों में व्याख्यान। साहित्य की लगभग सभी विधाओं में महत्त्वपूर्ण कार्य। 1986 में ‘साहित्य अकादमी सम्मान’ तथा 1996 में मीर तक़ी मीर के काव्य पर विस्तृत आलोचना-ग्रंथ ‘शेर शोर अंगेज़’ के लिए ‘सरस्वती सम्मान’।

सम्प्रति : इलाहाबाद में रहकर लेखन।

सम्पर्क : 29-सी, न्याय मार्ग, इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश)।

अकबर इलाहाबादी पर एक और नज़र

शम्सुर्रहमान फ़ारूक़ी

मूल्य: Rs. 200

उर्दू के विख्यात आलोचक, उपन्यासकार, कवि शम्सुर्रहमान फ़ारुक़ी के ये तीन आलेख अकबर इलाहाबादी को एक नये ढंग से देखते हैं

  आगे...

उर्दू का आरम्भिक युग

शम्सुर्रहमान फ़ारूक़ी

मूल्य: Rs. 175

उम्मीद है कि हिन्दी के पाठकों को यह पुस्तक बेहद उपयोगी और सूचनापरक लगेगी।

  आगे...

सवार और दूसरी कहानियाँ

शम्सुर्रहमान फ़ारूक़ी

मूल्य: Rs. 600

सवार और दूसरी कहानियाँ’ शम्सुर्रहमान फ़ारूक़ी का पहला कहानी–संग्रह है। इस संग्रह की कहानियों का विषय 18वीं सदी की दिल्ली के माध्यम से उस समय की भारतीय संस्कृति है।

  आगे...

 

  View All >>   3 पुस्तकें हैं|