Sharad Joshi/शरद जोशी
लोगों की राय

लेखक:

शरद जोशी
जन्म : 21 मई 1931।

मृत्यु : 5 सितम्बर 1991।

शिक्षा : पढ़ाई कभी उज्जैन, कभी नीमच, कभी देवास, महू में। अंत में होल्कर कॉलेज, इंदौर से बी.ए.।

प्रबुद्ध, स्वतन्त्र और बेबाक पत्रकार एवं व्यंग्यकार शरद जोशी का जन्म 21 मई 1931 को उज्जैन, म.प्र. में हुआ था। पत्रकारिता, आकाशवाणी और सरकारी नौकरी के बाद उन्होंने लेखन को ही अपना जीवन बना लिया। ‘नई दुनिया’ से उन्होंने लेखन की शुरुआत की। 1980 में ‘हिन्दी एक्सप्रेस’ के सम्पादक का दायित्व सँभाला। बाद में ‘नवभारत टाइम्स’ में दैनिक व्यंग्य लिखकर वे देशभर में चर्चित हो गये। गद्य (व्यंग्य) को कविता की तरह पढ़कर कवि-सम्मेलनों में मंच लूटने की भी उन्होंने महारत हासिल की। कुछेक व्यंग्य-नाटक भी चर्चित और मंचित हुए हैं। उन्होंने दूरदर्शन के लिए धारावाहिकों के अलावा फिल्मी संवाद भी लिखे।

पुरस्कार/सम्मान : चकल्लस पुरस्कार, काका हाथरसी पुरस्कार, मध्यभारत हिन्दी साहित्य समिति, इन्दौर द्वारा ‘सारस्वत मार्तण्ड’ की उपाधि, 1989 में भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री से अलंकृत किया, अट्टहास 91 व ‘परिवार’ पुरस्कार मरणोपरांत एवं समय-समय पर अन्य पुरस्कारों से सम्मानित।

कृतियाँ : जीप पर सवार झल्लियाँ, रहा किनारे बैठ, मेरी श्रेष्ठ रचनाएँ, पिछले दिनों, किसी बहाने, परिक्रमा, यथासम्भव, यत्र तत्र सर्वत्र, हम भ्रष्टन के भ्रष्ट हमारे, झरता नीम साश्वत थीम, तिलिस्म, प्रतिदिन (तीन खंड), नावक के तीर, दूसरी सतह, अंधों का हाथी, एक था गधा उर्फ अलादाद खाँ, ‘मैं, मैं और केवल मैं’।

यत्र तत्र सर्वत्र

शरद जोशी

मूल्य: Rs. 300

व्यंग्य-साहित्य के पाठकों के लिए एक नयी उपलब्धि...

  आगे...

यथासंभव

शरद जोशी

मूल्य: Rs. 380

शरद जोशी की एक अनुपम कृति...

  आगे...

यथासमय

शरद जोशी

मूल्य: Rs. 210

यथासमय शरद जी के अप्रकाशित लेकिन महत्त्वपूर्ण व्यंग्यों का संग्रह है...   आगे...

रहा किनारे बैठ

शरद जोशी

मूल्य: Rs. 125

प्रस्तुत है व्यंग्य निबंधों का संग्रह...

  आगे...

वोट ले दरिया में डाल (अजिल्द)

शरद जोशी

मूल्य: Rs. 195

  आगे...

वोट ले दरिया में डाल (सजिल्द)

शरद जोशी

मूल्य: Rs. 295

  आगे...

शरद परिक्रमा

शरद जोशी

मूल्य: Rs. 799

  आगे...

हम भ्रष्टन के भ्रष्ट हमारे

शरद जोशी

मूल्य: Rs. 100

प्रस्तुत कृति ‘हम भ्रष्टन के भ्रष्ट हमारे’ शरद जोशी के व्यंग्य-लेखों के एक विशाल संग्रह से साभिप्राय चुनी गयी रचनाओं का संकलन हैं।   आगे...

हम भ्रष्टन के भ्रष्ट हमारे

शरद जोशी

मूल्य: Rs. 300

ऑडियो पुस्तक   आगे...

 

 < 1 2  View All >>   19 पुस्तकें हैं|