Shiv Kumar Mishra/शिवकुमार मिश्रा
लोगों की राय

लेखक:

शिवकुमार मिश्रा
जन्म : 2 फरवरी 1931, कानपुर (उ.प्र.)।

शिक्षा : एम.ए. तक की शिक्षा, कानपुर में। पी.एच-डी. तथा डी-लिट्. सागर विश्वविद्यालय, सागर, म.प्र. से।

गतिविधियाँ : सन 1959 से सन 1977 तक सागर विश्वविद्यालय में तथा उसके उपरांत 1991 ई. तक सरदार पटेल विश्वविद्यालय, वल्लभ विद्यानगर (गुजरात) में अध्यापन। भारत सरकार की सांस्कृतिक आदान-प्रदान योजना के तहत 1991 ई. में 15 दिन की सोवियत यूनियन की सांस्कृतिक यात्रा। राष्ट्रीय अध्यक्ष : जनवादी लेखक संघ।

साहित्यिक सेवा :
  • 'नया हिंदी काव्य'
  • 'प्रगतिवाद'
  • मार्क्सवादी साहित्य-चिंतन'
  • 'यथार्थवाद'
  • 'प्रेमचंद : विरासत का सवाल'
  • आचार्य शुक्ल और हिंदी आलोचना की परंपरा'
  • 'भक्ति आन्दोलन और भक्ति काव्य'
  • 'मार्क्सवाद देवमूर्तियाँ नहीं गढ़ता'
  • 'आधुनिक कविता और युग-सन्दर्भ'
  • 'इतिहास, साहित्य और संस्कृति'
सहित साहित्य-समीक्षा से सम्बंधित 17 पुस्तकों का लेखन। साहित्य समीक्षा से सम्बंधित आचार्य नन्ददुलारे वाजपेयी की चार पुस्तकों तथा विदेशी लेखकों की चार पुस्तकों का संपादन-पुनःप्रस्तुति।

पुरस्कार : 'मार्क्सवादी साहित्य-चिंतन' पुस्तक पर सन 1975 ई. में सोवियत-लैंड नेहरु एवार्ड।

कहानीकार प्रेमचन्द : रचना दृष्टि और शिल्प

शिवकुमार मिश्रा

मूल्य: Rs. 300

प्रस्तुत पुस्तक लगभग एक दशक की चिंतन-यात्रा की पगडण्डी है जिसमें कथा-समीक्षा की एक पद्धति निकालने की कोशिश की गयी है   आगे...

प्रेमचन्द की विरासत और गोदान

शिवकुमार मिश्रा

मूल्य: Rs. 195

गोदान' मूलत: ग्राम-केन्द्रित उपन्यास है और उसी रूप में मान्य भी है   आगे...

भक्ति आन्दोलन और भक्ति काव्य

शिवकुमार मिश्रा

मूल्य: Rs. 350

प्रस्तुत पुस्तक का सम्बन्ध भक्ति-आन्दोलन और भक्ति-काव्य से है, भक्ति-आन्दोलन के मूल में जनता के दुःख-दर्द ही हैं और उन दुःख-दर्दों को बड़ी जिवंत मानवीयता के साथ उभरने, उनसे एकमेक होकर सामने आने में ही भक्ति-आन्दोलन की शक्ति को देखा जा सकता है   आगे...

मार्क्सवाद और साहित्य

शिवकुमार मिश्रा

मूल्य: Rs. 295

मार्क्सवाद और साहित्य   आगे...

 

  View All >>   4 पुस्तकें हैं|