फिर उड़ चली तितली - राजी रामन Phir Ud Chali Titli - Hindi book by - Raji Raman
लोगों की राय

चिल्ड्रन बुक ट्रस्ट >> फिर उड़ चली तितली

फिर उड़ चली तितली

राजी रामन

प्रकाशक : सी.बी.टी. प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :16
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 10013
आईएसबीएन :9789384699239

Like this Hindi book 0

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

रविवार का दिन था। स्कूल की छुट्टी होने के कारण विवेक खेलने में मस्त था। घर में खेलते-खेलते जब वह ऊब गया तो उसने सोचा क्यों न बाहर जाकर खेला जाए।
‘‘मम्मी !’’ विवेक ने आबाज़ लगाई, ‘‘मैं बगीचे में खेलने जा रहा हूँ !’’
‘‘ठीक है,’’ उसकी मां ने कहा, ‘‘पर अपनी टोपी पहन लेना, धूप वहुत तेज़ है आज।’’
विवेक ने अपनी टोपी पहनी और खेलने चला गया।

लोगों की राय

No reviews for this book