दुमदार नाक - आर.के. मूर्ति Dumdaar Naak - Hindi book by - R.K. Moorti
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> दुमदार नाक

दुमदार नाक

आर.के. मूर्ति

प्रकाशक : सी.बी.टी. प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2011
पृष्ठ :16
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 10083
आईएसबीएन :81-89750-22-4

Like this Hindi book 0

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

पारो को छोड़कर मां सुअर के सारे बच्चे चतुर थे। लेकिन पारो थोड़ी-सी बुद्धू थी। कोई भी बात उसे देर से समझ में आती थी और इसीलिए हर तरह की मुसीबत में वह बड़ी जल्दी फंस जाती थी।

एक बार उसने रास्ते से एक साही को धक्का देकर हटाया और उसके सारे शरीर में कांटे चुभ गए।

प्रथम पृष्ठ

लोगों की राय

No reviews for this book