फिर सुबह होगी - बलवंत सिंह Phir Subah Hogi - Hindi book by - Balwant Singh
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> फिर सुबह होगी

फिर सुबह होगी

बलवंत सिंह

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :123
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 10182
आईएसबीएन :9789352211081

Like this Hindi book 0

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

प्रस्तुत उपन्यास ‘फिर सुबह होगी’ में पीड़ा का दबा-दबा स्वर गूँजता है जो एक पीढ़ी से शुरू होता है और इसका अंट दूसरी पीढ़ी में जाकर होता है। इस उपन्यास में कुछ पात्रों को लेकर कथानक का ताना-बाना तैयार किया गया है, जो मध्यम वर्ग से सम्बन्ध रखते हैं। सभी पत्र पाठकों के सुपरिचित व्यक्तियों में से लिये गये हैं परन्तु कहानी की रोचकता व सजीवता में कोई कमी नहीं महसूस होती। विश्वास है यह उपन्यास पाठकों को शुरू से अंत तक बांधे रखने में सक्षम सिद्ध होगा।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book