आखिरी परिचय - शरत चन्द्र चट्टोपाध्याय Akhiri Parichay - Hindi book by - Sharat Chandra Chattopadhyay
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> आखिरी परिचय

आखिरी परिचय

शरत चन्द्र चट्टोपाध्याय

प्रकाशक : विश्व बुक्स प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :248
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 10228
आईएसबीएन :817987253X

Like this Hindi book 0

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

पति ब्रजबाबू और बेटी रेणु को छोड़ कर सविता रमणी बाबू के साथ भले ही रहने लगी हो, पर दोनों की ज्यादा पटी नहीं। एक दिन रमणी बाबू ने भी उसे छोड़ दिया। तब उसके जीवन में आए विमल बाबू। क्या विमल बाबू से उस का वह आखिरी परिचय था ? अथवा विमल बाबू के बाद भी उसके जीवन में कोई आया ? क्या इस जीवन प्रवाह में वह पति और बेटी को भुला सकी ? सविता की गलतियों की सजा क्या रेणु और ब्रजबाबू को नहीं भोगनी पड़ी ? क्या बेटी मां को कभी माफ कर सकी ?

परंपरागत धार्मिक एवं सामाजिक बंधनों में छटपटाती नारी की अनोखी दास्तान है ‘आखिरी परिचय’, जिसे ‘नारी वेदना के पुरोहित’ शरतचंद्र चट्टोपाध्याय ने पंद्रहवें अध्याय तक ही लिखा था और जिसे पूरा किया था श्रीमती राधारानी देवी ने, जिनसे शरत ने उपन्यास की रूपरेखा के बारे में चर्चा की थी।

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book