नक्षत्रहीन समय मे - अशोक वाजपेयी Nakshtraheen Samay Mein - Hindi book by - Ashok Bajpai
लोगों की राय

कविता संग्रह >> नक्षत्रहीन समय मे

नक्षत्रहीन समय मे

अशोक वाजपेयी

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :128
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 10296
आईएसबीएन :9788126728220

Like this Hindi book 0

अपनी कविता के मूल स्वर और सरोकार पर अड़े रहे इस कवि ने हर बार अपनी कविता के संसार में कुछ ऐसा शामिल किया, खोजा है जो पहले नहीं था। इस बार समकालीन राजनीति में जो उथल-पुथल हुई है उसके प्रतिरोध के रूप में उनकी कविता खड़ी हुई है।

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

नक्षत्रहीन समय में अशोक वाजपेयी का यह पन्द्रहवाँ कविता-संग्रह उनके पहले कविता-संग्रह के प्रकाशन के 50वें वर्ष में प्रकाशित हो रहा है। अपनी कविता के मूल स्वर और सरोकार पर अड़े रहे इस कवि ने हर बार अपनी कविता के संसार में कुछ ऐसा शामिल किया, खोजा है जो पहले नहीं था। इस बार समकालीन राजनीति में जो उथल-पुथल हुई है उसके प्रतिरोध के रूप में उनकी कविता खड़ी हुई है। टेढ़ेपन पर अटल भरोसा रखने वाले कवि ने इसमें कुछ सपाटबयानी भी की है। इस सबके बावजूद होने का अवसाद, गहरा आत्मालोचन और अदम्य जिजीविषा सब कुछ यहाँ एक साथ है। सयानापन और ज़िम्मेदारी, शब्द और शिल्प से कुछ खिलवाड़ तथा रोज़मर्रा की ज़िन्दगी का सहज अध्यात्म फिर चरितार्थ है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book