Vajashrava Ke Bahane - Hindi book by - Kunwar Narain - वाजश्रवा के बहाने - कुँवर नारायण
लोगों की राय

कविता संग्रह >> वाजश्रवा के बहाने

वाजश्रवा के बहाने

कुँवर नारायण

प्रकाशक : भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशित वर्ष : 2008
पृष्ठ :160
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 10340
आईएसबीएन :9788126314553

Like this Hindi book 0

हिन्दी के अग्रणी कवि कुँवर नारायण का यह दूसरा खंड-काव्य है…

हिन्दी के अग्रणी कवि कुँवर नारायण का यह दूसरा खंड-काव्य है। अपनी सुदीर्घ, सार्थक और यशश्वी रचना-यात्रा में उन्होंने अनेक बार हिन्दी कविता को प्रचलित पंक्तियों से उबार कर नए काव्यार्थ से समृद्ध किया है। 'वाजश्रवा के बहाने' अनेक समकालीन सन्दर्भों से जुड़ती हुई एक बिलकुल नयी और स्वतन्त्र रचना है, जिसकी 'आत्मजयी' के परिप्रेक्ष्य में भी एक ख़ास जगह बनती है।

प्रथम पृष्ठ

लोगों की राय

No reviews for this book