Kahin Aur - Hindi book by - Virendra Kumar Jain - कहीं और - वीरेन्द्र कुमार जैन
लोगों की राय

कविता संग्रह >> कहीं और

कहीं और

वीरेन्द्र कुमार जैन

प्रकाशक : भारतीय ज्ञानपीठ प्रकाशित वर्ष : 2007
पृष्ठ :136
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 10368
आईएसबीएन :9788126313723

Like this Hindi book 0

हिन्दी के सुप्रसिद्ध कथाकार एवं कवि वीरेन्द्र कुमार जैन के इस कविता-संग्रह में दार्शनिक भावबोध की अपूर्व उंचाई है…

हिन्दी के सुप्रसिद्ध कथाकार एवं कवि वीरेन्द्र कुमार जैन के इस कविता-संग्रह में दार्शनिक भावबोध की अपूर्व उंचाई है। यहाँ कवि की व्यक्तिसत्ता असीम शुन्य के अनहद नाद में अपनी संपूर्ण चेतना को इस तरह घुला देती है कि शेष रह जाता है सिर्फ एक निर्वैयक्तिक भान और इसी आन्तर चेतना से उपजी हैं ये कविताएँ।

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book