अतरापि - ध्रुवभट्ट Atarapi - Hindi book by - dhruv bhatt
लोगों की राय

उपन्यास >> अतरापि

अतरापि

ध्रुवभट्ट

प्रकाशक : प्रभात प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2018
आईएसबीएन : 9789352664269 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :160 पुस्तक क्रमांक : 12065

Like this Hindi book 0

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

एक सुबह साधक कौलेयक अपने नित्य पाठ बोलते हुए नदी किनारे चला जा रहा था। इसी तरह वह एक बाड़ी के पास से गुजर रहा था कि उस बाड़ी के मालिक एक किसान युवक ने उसे रोका, ‘‘भगत, जरा रुक, यहाँ तक आया है तो मेरी बाड़ी में आ। यह जो मंत्र तू बोल रहा है, वह कुछ हमारे पिल्लों को भी सिखाता जा।’’

‘‘मैं भगत नहीं, साधक हूँ।’’ कौलेयक ने जवाब दिया।

‘‘दोनों एक ही बात हैं। वैसे तो तू यात्रा को निकला है तो भगत ही माना जाएगा। फिर तू तो बड़ा ज्ञानी लगता है, इसलिए हमारी बाड़ी के, हमारे मोहल्ले के पिल्लों को भी कोई ज्ञानी गुरु मिल जाएँगे।’’ अपने बारे में ‘गुरु’ शब्द सुनते ही कौलेयक सोच में डूब गया। साधक में से मुमुक्षु भी बने बिना सीधे गुरु पद पाने की तीव्र इच्छा उसे हो आई। ‘ठीक है’ कहते हुए उसने बाड़ी में प्रवेश किया। कुछ पिल्ले उसे देखकर जरा गुर्राकर, फिर पूँछ हिलाते हुए नजदीक आ गए। उस किसान ने पिल्लों को लाइन में खड़े करके कौलेयक से पहचान कराते हुए कहा, ‘‘ये तुम्हारे गुरु हैं। चलो, इन्हें सब मिलकर प्रणाम तो करो।’’

बेचारे पिल्लों को, जो कभी नहीं किया था, वह करने का आदेश मिला तो क्या करना, यह न सूझने के कारण सब एक-दूसरे का मुँह ताकते रहे।

— इसी पुस्तक से

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login