अज्ञेय के उद्धरण - सं. नन्द किशोर आचार्य Agyeya Ke Uddharan - Hindi book by - Nandkishor Aacharya
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> अज्ञेय के उद्धरण

अज्ञेय के उद्धरण

सं. नन्द किशोर आचार्य

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2019
पृष्ठ :132
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 12337
आईएसबीएन :9789388753159

Like this Hindi book 0

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

अज्ञेय का लेखन इतना विपुल और वैविध्यपूर्ण है कि उसमें से उद्धरणों के एक चयन की बात सोचते ही पहला सवाल तो उसकी क्रम-प्रक्रिया को लेकर ही सामने आया। लगभग सभी साहित्यिक विधाओं में उत्कृष्ट लेखन के साथ-साथ अज्ञेय ने मानव-जीवन और समाज से जुड़ी सभी समस्याओं पर भी स्वतन्त्र रूप से सम्यक् विचार किया है। अज्ञेय के लिए न केवल साहित्य बल्कि पूरा मानव-जीवन ही मूल्यान्वेषण की प्रक्रिया है। इस क्रम से आरम्भ करने पर सहज ही केन्द्रीय मूल्य स्वतन्त्रता और उनसे जुड़े सवालों को अलगे चरण में रख पाना उचित लगा और साहित्य क्योंकि मूल्यान्वेषण की प्रक्रिया है, अतः भाषा, साहित्य आदि से जुड़े चिन्तन से चयन किये जाने वाले उद्धरणों का क्रम भी तय हो गया। इस चयन से गुज़रते हुए पाठक को यह महसूस हो सकता है कि अज्ञेय जब किसी दार्शनिक या तर्कशास्त्रीय गुत्थी पर भी विचार करते हैं तो उनका चिन्तन अधिकांशतः किसी अकादेमिक दार्शनिक की तरह का नहीं, बल्कि एक संवेदनात्मक दृष्टि, या कहें कि कवि-दृष्टि से किया गया चिन्तन होता है। अज्ञेय का चिन्तन कवि-दृष्टि का चिन्तन है, अकादेमिक नहीं। शायद, इसलिए इस कवि-दृष्टि के विमर्शात्मक चिन्तन और कविताओं के बीज-संवेदन का अहसास भी सुधी पाठकों को हो सकेगा।

पाठक यदि चयन की इन मोटी रेखाओं के सहारे अज्ञेय के चिन्तन और कवि-कर्म की विपुलता, विविधता और सूक्ष्मता में प्रवेश करने की प्रेरणा पा सकें, तो यही इस चयन की सार्थकता होगी। अज्ञेय के कवि-कर्म और चिन्तन के द्वन्द्वों-समाधानों और प्रक्रियाओं-निष्कर्षों में ऐसा बहुत कुछ है जो किसी भी समय के लेखक-पाठक के लिए सदैव प्रासंगिक रहेगा।

— प्रस्तावना से

‘‘रज़ा पुस्तक माला के अन्तर्गत हम अपने मूर्धन्य लेखकों के उद्धरणों के संचयन की एक सीरीज़ प्रकाशित कर रहे हैं। मंशा यह है कि उद्धरणों को पढ़कर सामान्य पाठक इन लेखकों की मूल कृतियों को पढऩे के लिए लालायित हों। पहला ऐसा संचयन मुक्तिबोध के उद्धरणों का था। दूसरा यह संचयन अज्ञेय का है जिसे वरिष्ठ कवि-आलोचक-नाटककार-चिन्तक नन्दकिशोर आचार्य ने तैयार किया है। वे अज्ञेय के बरसों तक निकट थे।’’

— अशोक वाजपेयी

लोगों की राय

No reviews for this book