छायावाद प्रसाद, निराला, महादेवी और पन्त - नामवर सिंह Chhayavad Prasad, Nirala, Mahadevi Aur Pant - Hindi book by - Namvar Singh
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> छायावाद प्रसाद, निराला, महादेवी और पन्त

छायावाद प्रसाद, निराला, महादेवी और पन्त

नामवर सिंह

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2018
पृष्ठ :200
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 12365
आईएसबीएन :9789388183246

Like this Hindi book 0

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

‘छायावाद’ पुस्तक में जहाँ छायावाद की समूहगत सामान्य प्रवृत्तियों के विश्लेषण का विशेष आग्रह था, वहीं प्रस्तुत पुस्तक में प्रसाद, निराला, महादेवी और पन्त के वैशिष्ट्य और नवीन पक्षों पर विशेष दृष्टि डाली गई है। सौन्दर्य के समान महान सृजक भी विशिष्ट होते हैं। हिन्दी साहित्य ‘ग्लैक्सी’ की विभूतियाँ हैं-प्रसाद, निराला, महादेवी और पन्त। इन विभूतियों की अपनी अलग विशिष्ट पहचान है। इनका व्यक्तित्व, भाव, तेवर, भाषा और सअंदाज अलग-अलग और विशिष्ट है। इस पुस्तक में समानता के सामानांतर इन अपरिहार्य हस्ताक्षरों की विशिष्टताओं को क्रेन्दीयता मिली है। इसमें प्रसाद, निराला, महादेवी और पन्त की साहित्यिकता की मौलिक एवं नूतन अर्थ-मीमांसा के साथ- साथ नवीन ‘कैनन’ का भी आग्रह है। छायावाद के बाद से लेकर आज तक की कविताओं की उपलब्धियों, सीमाओं, चुनौतियों और सम्भावनाओं के वृहत्तर दायरे में यह छायावादी रचनाशीलता के पुनर्मूल्यांकन की एक अनुप्रेक्षणीय समीक्षा-यात्रा है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book