एक था डॉक्टर एक था संत - अरुन्धति रॉय Ek Tha Doctor Ek Tha Sant - Hindi book by - Arundhati Roy
लोगों की राय

उपन्यास >> एक था डॉक्टर एक था संत

एक था डॉक्टर एक था संत

अरुन्धति रॉय

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2019
पृष्ठ :184
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 12392
आईएसबीएन :9789388933056

Like this Hindi book 0

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

वर्तमान भारत में असमानता को समझने और उससे निपटने के लिए, अरुंधति रॉय ज़ोर दे कर कहती हैं कि हमें राजनीतिक विकास और एम.के. गांधी का प्रभाव, दोनों का ही परीक्षण करना होगा। सोचना होगा कि क्यों बी.आर. आंबेडकर द्वारा गांधी की लगभग दैवीय छवि को दी गई प्रबुद्ध चुनौती को भारत के कुलीन वर्ग द्वारा दबा दिया गया। राय के विश्लेषण में, हम देखते हैं कि न्याय के लिए आंबेडकर की लड़ाई, जाति को सुदृढ़ करनेवाली नीतियों के पक्ष में, व्यवस्थित रूप से दरकिनार कर दी गई, जिसका परिणाम है वर्तमान भारतीय राष्ट्र जो आज ब्रिटिश शासन से स्वतंत्र है, विश्वस्तर पर शक्तिशाली है, लेकिन आज भी जो जाति व्यवस्था में आकंठ डूबा है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book