भारतीय विज्ञान की कहानी - गुणाकर मुले Bhartiya Vigyan Ki Kahani - Hindi book by - Gunakar Muley
लोगों की राय

पर्यावरण एवं विज्ञान >> भारतीय विज्ञान की कहानी

भारतीय विज्ञान की कहानी

गुणाकर मुले

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2003
पृष्ठ :117
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 12404
आईएसबीएन :9788189444068

Like this Hindi book 0

भारतीय विज्ञान की कहानी

मध्ययुग तक भारतीय विज्ञान किसी भी अन्य देश के विज्ञान से पीछे नहीं था। हमारे देश में चरक, सुश्रुत, आर्यभट, वराहमिहिर, नागार्जुन तथा भास्कराचार्य (1150 ई.) जैसे महान वैज्ञानिक हुए। आरंभ में अरबों ने भारतीय विज्ञान से लाभ उठाया और फिर यूरोप में इसका प्रचार-प्रसार किया। आज सारे संसार में प्रयुक्त होने वाली शून्य पर आधारित स्थानमान अंक-पद्धति मूलतः भारत का आविष्कार है। विज्ञान के क्षेत्रा में भारत ने संसार को बहुत-कुछ दिया है, और अन्य देशों से बहुत-कुछ लिया भी है। भारतीय विज्ञान की कहानी ज्ञान-विज्ञान के इसी आदान-प्रदान की चर्चा से शुरू होती है। आगे पाषाण युग, ताम्रयुग की सिंधु सभ्यता तथा वैदिक काल की वैज्ञानिक उपलब्धियों की जानकारी दी गई है। तदनंतर विषयानुसार भारतीय विज्ञान के विकास की रूपरेखा प्रस्तुत की गई है।

लेखक स्वयं विज्ञान के अध्येता हैं, इसलिए भारतीय विज्ञान के इस विवेचन को उन्होंने वैज्ञानिक दृष्टिकोण से ही प्रस्तुत किया है। संसार के सभी विकसित देशों के स्कूल-कॉलेजों में ‘विज्ञान का इतिहास’ पढ़ाया जाता है। हमारे देश के विज्ञान के विद्यार्थियों को भी प्राचीन भारत के विज्ञान की थोड़ी-बहुत जानकारी अवश्य होनी चाहिए। इतिहास के विद्यार्थियों को तो भारतीय विज्ञान की उपलब्धियों की जानकारी अवश्य ही होनी चाहिए। इसी आवश्यकता को ध्यान में रखकर यह पुस्तक लिखी गई है और यह हिंदी में एक बड़े अभाव की पूर्ति करती है। अध्यापक तथा सामान्य पाठक भी इस पुस्तक को उपयोगी पाएँगे।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book