Srishti Par Pahara - Hindi book by - Kedarnath Singh - सृष्टि पर पहरा - केदारनाथ सिंह
लोगों की राय

कविता संग्रह >> सृष्टि पर पहरा

सृष्टि पर पहरा

केदारनाथ सिंह

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :120
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 12428
आईएसबीएन :9788126725908

Like this Hindi book 0

सृष्टि पर पहरा

केदारनाथ सिंह का यह नया संग्रह कवि के इस विश्वास का ताजा साक्ष्य है कि अपने समय में प्रवेश करने का रास्ता अपने स्थान से होकर जाता है। यहाँ स्थान का सबसे विश्वसनीय भूगोल थोड़ा और विस्तृत हुआ है, जो अनुभव के कई सीमांतों को छूता है। इन कविताओं में कवि की भाषा और पारदर्शी हुई है और संवादधर्मी भी।

संग्रह की लम्बी कविता ‘मंच और मचान’ इस दृष्टि से उल्लेखनीय है कि यहाँ कटते हुए वृक्ष के विरुद्ध एक व्यक्ति (चीना बाबा) का प्रतिरोध ‘घर’ के लिए आदमी के बुनियादी संघर्ष का रूपक बन जाता है। यहाँ तुच्छ कीचड़ भी दुनिया बचाने के लिए सक्रिय दीखता है और घास की एक छोटी-सी पट्टी भी बैनर उठाये हुए मैदान में कड़ी है। पानी,कपास, लकड़ी और धुल जैसी छोटी-छोटी चीजों की बेचैनी से भरी ये कविताएँ कोई दावा नहीं करतीं। वे सिर्फ आपसे बोलना-बतियाना चाहती हैं-एक ऐसी भाषा में जो जितनी इनकी है उतनी ही आपकी भी।

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book