भक्ति और शरणागति - विष्णुकांत शास्त्री Bhakti Aur Sharnagati - Hindi book by - Vishnukant shastri
लोगों की राय

आलोचना >> भक्ति और शरणागति

भक्ति और शरणागति

विष्णुकांत शास्त्री

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2010
पृष्ठ :176
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13059
आईएसबीएन :9788180314780

Like this Hindi book 0

राम के भक्त के समान मेरा जीवन हो सके इसके लिये भक्ति और शरणागति को समझना अनिवार्य लगा। यह लेखन उसी समझ को प्रशस्त करने का उपक्रम है

तुलसिहिं बहुत भलो लागत,
जगजीवन राम गुलाम को।'

तुलसी की यह उक्ति आज के जीवन के कुहासे को काट कर ऊपर उठने की प्रेरणा देती रही है। राम के भक्त के समान मेरा जीवन हो सके इसके लिये भक्ति और शरणागति को समझना अनिवार्य लगा। यह लेखन उसी समझ को प्रशस्त करने का उपक्रम है।
भावुक पाठक इनको पढ़कर भक्ति और शरणागति के गंभीर अनुशीलन में प्रवृत्त होंगे।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book