चलो कलकत्ता - विमल मित्र Chalo Kalkatta - Hindi book by - Vimal Mitra
लोगों की राय

उपन्यास >> चलो कलकत्ता

चलो कलकत्ता

विमल मित्र

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2012
पृष्ठ :173
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13081
आईएसबीएन :9788180316098

Like this Hindi book 0

स्वाधीनोत्तर युग के अति आधुनिक विक्षुब्ध बंगाल की राजधानी का चित्र हैं-चलो कलकत्ता

मैंने पाँच उपन्यासों के द्वारा भारतवर्ष के इतिहास का परिक्रमण शुरू किया था। 1757 ईसवी में जिस दिन अंग्रेजों ने पहले-पहल भारतवर्ष में पाँव रखा था, उसी दिन शुरू हुआ यह परिक्रमण। 'बेगम मेरी विश्वास' इस परिक्रमण का सूत्रपात है। उसके पश्चात् 'साहब बीबी गुलाम, 'खरीदी कौड़ियों के मोल' 'इकाई दहाई सैकड़ा' के साथ बीसवीं सदी के छठे दशक में जब भारत की पूर्वी सीमा चीनी अक्रमण से आक्रान्त थी, यह परिक्रमण सम्पूर्ण हुआ। उसके बाद स्वाधीनोत्तर युग के अति आधुनिक विक्षुब्ध बंगाल की राजधानी का चित्र हैं-चलो कलकत्ता। बँगला में पहली बार जब यह पुस्तक प्रकाशित हुई, यहाँ कांग्रेस सरकार सत्तारूढ़ थी।
पाठक अगर इन पुस्तकों को कालानुक्रमिक भाव से पढ़ें, तो अर्थ के रस-ग्रहण में उन्हें विशेष सुविधा होगी।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book