चित्रलेखा का महत्व - मधुरेश Chitralekha Ka Mahatva - Hindi book by - Madhuresh
लोगों की राय

आलोचना >> चित्रलेखा का महत्व

चित्रलेखा का महत्व

मधुरेश

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :200
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13087
आईएसबीएन :9788180319310

Like this Hindi book 0

अपने प्रकाशन के लगभग तत्काल बाद से ही 'चित्रलेखा' किसी-न-किसी रूप में चर्चा और विवादों में रही है। लेकिन उसका खुमार आज भी बना है

अपने प्रकाशन के लगभग तत्काल बाद से ही 'चित्रलेखा' किसी-न-किसी रूप में चर्चा और विवादों में रही है। लेकिन उसका खुमार आज भी बना है।
जैसा कि प्राय: कोई नयी जमीन तोड़नेवाली हर रचना के साथ होता है, वह अपने साथ अनेक प्रश्नों और विवादों को भी लेकर आती है। 'चित्रलेखा' के साथ भी यह सच है। एक ओर यदि वैचारिक धरातल पर भगवतीचरण वर्मा और उनकी रचना का विरोध हुआ, वहीं कभी उनके स्त्री पात्रों, कभी बीजगुप्त के प्रेम-दर्शन और जीवन-पद्धति को आधार बनाकर लेखक पर अनेक सवाल उठाये गये।
किसी भी रचना पर विचार और मूल्यांकन की प्रक्रिया में पहला काम उस रचना को वस्तुपरकता के साथ देखना और समझना है। 'चित्रलेखा' को सम्पूर्णता में समझने के लिए यहाँ बहुत से ऐसे पक्षों पर लिखवाया गया है जिसके बिना उसका कोई भी मूल्यांकन अधूरा होगा।
यहाँ जो सामग्री संकलित है उसके माध्यम से 'चित्रलेखा' को समूचे परिप्रेक्ष्य में अधिक पूर्णता से समझा जा सकेगा।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book