ढूँढा और पाया - विपिन कुमार अग्रवाल Dhoondha Aur Paya - Hindi book by - Vipin Kumar Agarwal
लोगों की राय

कविता संग्रह >> ढूँढा और पाया

ढूँढा और पाया

विपिन कुमार अग्रवाल

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 1991
पृष्ठ :159
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13091
आईएसबीएन :9788180318207

Like this Hindi book 0

ढूँढ़ा और पाया' कवि विपिन कुमार अग्रवाल का खास ढंग से विशिष्ट काव्य-संग्रह है

'ढूँढ़ा और पाया' कवि विपिन कुमार अग्रवाल का खास ढंग से विशिष्ट काव्य-संग्रह है। इसमें की कुछ कविताएँ विपिन के एकदम पहले, या कि पहले आधे संग्रह 'धुएँ की लकीरें' (1956) से ली गयी हैं-इस संग्रह के दूसरे कवि लक्ष्मीकान्त वर्मा हैं। यह संयोग से कुछ अधिक है कि नयी कविता कि ये दोनों कवि असाधारण अपना पहला संग्रह संयुक्त प्रकाशित करते हैं। फिर प्रस्तुत संग्रह में कुछ अब तक की असंकलित कविताएँ सम्मिलित की गयी हैं। और विशिष्टता तब पूरी हो जाती है जब हम पाते है कि कवि की पाँच अन्तिम अप्रकाशित कविताएँ यहाँ पढ़ने को पहली बार सुलभ हो रही हैं। यों, यह संग्रह विपिन के काव्य समग्र का बड़ी कुशलता के साथ प्रतिनिधित्व करता है। इसका संकलन- सम्पादन डॉ. शीला अग्रवाल द्वारा किया गया है। विपिन की इन कविताओं को इस रूप में पढ़ते समय एक विषादपूर्ण सन्तोष का अनुभव होता है। कविताएँ हमारे सामने हैं, कवि अनुपस्थित। पर क्या इन कविताओं में ही हम कवि को उपस्थित नहीं पाते? निराला का स्मरण अनायास हो आता है- मैं अलक्षित हूँू, यही कवि कह गया है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book