कामायनी का पुनर्मूल्यांकन - रामस्वरूप चतुर्वेदी Kamayani Ka Punarmulyakan - Hindi book by - Ram Swaroop Chaturvedi
लोगों की राय

आलोचना >> कामायनी का पुनर्मूल्यांकन

कामायनी का पुनर्मूल्यांकन

रामस्वरूप चतुर्वेदी

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 1995
पृष्ठ :64
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13167
आईएसबीएन :9788180310737

Like this Hindi book 0

यह कृति 'प्रसाद' काव्य को समझने में दूर तक हमारी सहायता करती है, और साथ ही काव्य की हमारी समझ को बढ़ाती है

प्रस्तुत कृति के माध्यम से डॉ. चतुर्वेदी ने 'कामायनी' के पुनर्मूल्यांकन को सही दिशा दी है। जैसा कि उन्होंने स्वयं विवेचन किया है, आकर्षण-विकर्षण, आतंक-उपेक्षा तथा महानता-विश्वविद्यालयीयता के बीच कवि 'प्रसाद' का अब तक विवेचन 'भाषा और संवेदना' की रचनात्मक उपलब्धि के केन्द्रीय सत्य को व्याख्यायित करने में असमर्थ रहा है। डॉ. चतुर्वेदी के अनुसार बिना इस पकड़ के 'प्रसाद' के काव्य का न सही मूल्यांकन हो सकता है और न उनके काव्य के अध्ययन के दौरान उठनेवाले सवालों का ठीक जवाब ही खोजा जा सकता है। लेखक ने बहुत सधे ढंग से 'प्रसाद' काव्य और मुख्यत: 'कामायनी' के गहरे और सूक्ष्म सांस्कृतिक सन्दर्भों को विवेचित करने की चेष्टा की है, और बिम्ब-विधान के माध्यम से उनकी रचनात्मक क्षमता को प्रतिपादित करने का प्रयास किया है। वस्तुत: काव्य रचनात्मक संश्लेष को उसकी सम्पूर्ण जटिलता में विवृत करने का सबसे दक्ष उपाय यही है। यह एक संक्षिप्त अध्ययन है, और इस कारण अध्येता पाठक अतृप्त रह जाने के कारण कुछ असन्तोष का अनुभव कर सकता है। परन्तु इसमें सन्देह नहीं कि इस असन्तोष को जिज्ञासा में रूपान्तरित करती हुई यह कृति 'प्रसाद' काव्य को समझने में दूर तक हमारी सहायता करती है, और साथ ही काव्य की हमारी समझ को बढ़ाती है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book