केशवदास - विजयपाल सिंह Keshavdas - Hindi book by - Vijay Pal Singh
लोगों की राय

आलोचना >> केशवदास

केशवदास

विजयपाल सिंह

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :272
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13176
आईएसबीएन :9789352210725

Like this Hindi book 0

आचार्य केशवदास सम्बन्धी अध्ययन के क्षेत्र में प्रस्तुत पुस्तक एक बड़े अभाव की पूर्ति करती है

केशवदास ऐतिहासिक दृष्टि से हिंदी ही के प्रथम आचार्य नहीं हैं वरन प्रौढ़ता, व्यापकता एवं मौलिकता की दृष्टि से वे रीतिकाल के भी सर्वश्रेष्ठ आचार्य हैं। वे रीतिकाल के युग निर्माता साहित्यकार हैं। समस्त रीतिकाल में केशव के समान व्यापक अध्ययन, गहरी एवं मौलिक दृष्टि वाला अन्य आचार्य दिखायी नहीं देता। केशव के महत्त्व को व्याख्यायित करने वाले प्रस्तुत ग्रन्थ को सम्पादित करते समय विद्वान्सम्पदक ने रीतिकालीन साहित्य के मूर्धन्य विद्वानों और आलोचकों का सहयोग प्राप्त किया है। पूरी पुस्तक का संयोजन इस तरह किया गया है। जिससे अध्येताओं और शोधार्थियों के साथ छात्रों को केशवदास और उनके काव्य अवदान का सम्पूर्ण ज्ञान एक जगह उपलब्ध हो जाय। आचार्य केशवदास सम्बन्धी अध्ययन के क्षेत्र में प्रस्तुत पुस्तक एक बड़े अभाव की पूर्ति करती है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book