मुक्तिबोध एक अवधूत कविता - श्रीनरेश मेहता Muktibodh Ek Avdhut Kavita - Hindi book by - SriNaresh Mehta
लोगों की राय

आलोचना >> मुक्तिबोध एक अवधूत कविता

मुक्तिबोध एक अवधूत कविता

श्रीनरेश मेहता

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2012
पृष्ठ :84
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13220
आईएसबीएन :9788180317163

Like this Hindi book 0

कवि से आरम्भ करके उसकी कविता को देखें तो कितने विश्वसनीय नतीजे निकलते हैं, कि अरे, मुक्तिबोध इतने आत्मीय और सहज भी थे

कभी-कभी विद्रोही स्वयं विद्रोह का प्रतीक बन जाया करता है तब दोनों की प्रकृति समझने में कई असुविधाएँ उत्पन्न हो जाती हैं। मुक्तिबोध, विद्रोही से ज्यादा तो काव्य-विद्रोह हो गए थे इसलिए बहुत कम यह जानने की चेष्टा की गई कि मुक्तिबोध एक व्यक्ति भी है, और ऐसा व्यक्ति हमसे यह अपेक्षा करता है कि हम उसी पड़ताल उसकी कविताओं से जो प्राय: करते हैं, कभी स्वयं कवि से आरम्भ करके उसकी कविता को देखें तो कितने विश्वसनीय नतीजे निकलते हैं, कि अरे, मुक्तिबोध इतने आत्मीय और सहज भी थे। इस आत्मीय स्मरण में पड़ताल की यही प्रक्रिया काम में ली गई है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book