प्राचीन भारत में नगर तथा नगर-जीवन - उदय नारायण राय Pracheen Bharat Mein Nagar Tatha Nagar Jivan - Hindi book by - Uday Narayan Ray
लोगों की राय

इतिहास और राजनीति >> प्राचीन भारत में नगर तथा नगर-जीवन

प्राचीन भारत में नगर तथा नगर-जीवन

उदय नारायण राय

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2010
आईएसबीएन : 9788180314728 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :404 पुस्तक क्रमांक : 13243

Like this Hindi book 0

इस ग्रंथ में आरम्भ से लेकर बारहवीं शती ई. तक 'प्राचीन भारत में नगर तथा नगर-जीवन' विषय का विशद् एवं रोचक ऐतिहासिक परिचय पहली बार प्रस्तुत किया गया है

इस ग्रंथ में आरम्भ से लेकर बारहवीं शती ई. तक 'प्राचीन भारत में नगर तथा नगर-जीवन' विषय का विशद् एवं रोचक ऐतिहासिक परिचय पहली बार प्रस्तुत किया गया है। इस ग्रंथ के प्रथम तीन अध्यायों में आज से लगभग साढ़े चार हजार वर्षों पूर्व ताम्राश्म- काल में प्रथम नगरीय सभ्यता का स्वदेशी उद्‌भव एवं प्रारम्भिक विकास, हड़प्पा एवं मोहनजोदड़ो-सदृश प्रथम नगरों के सन्निवेश का मौलिक स्वरुप, पाश्चात्य समकालीन नगरों की तुलना में उनके निर्माण की उत्कृष्टता, कालान्तर में लौह काल में द्वितीय पुर-कान्ति के साथ गांगेय उपत्यका में नगरीकरण की प्रक्रिया का आरम्भ, नगर-सन्निवेश की विकसित शैली तथा नगर- तत्वों के नवीन विकास और समावेश के विवरण प्राप्य हैं। तदुपरान्त चतुर्थ से लेकर ग्यारहवें अध्याय तक देश के लगभग पचास प्रतिनिधि नगरों का तिथिक्रम के अनुसार ऐतिहासिक परिचय, नगर एवं गृह-निर्माण की वैज्ञानिक पद्धति, भारतीय अभियन्ताओं की मौलिक सूझ-बूझ तथा नगर-शासन की विशेषताओं का परिचय उपलब्ध होता है।
बारहवें से पन्द्रहवें अध्याय तक नगरों का आर्थिक जीवन एवं संघटन, सामाजिक, भौतिक एवं सांस्कृतिक जीवन की विशेषताओं का विश्लेषण, प्राचीन भारतीय कला में नगरीय रुपांकन तथा समग्र परिशीलन का सारगर्भित निष्कर्ष प्राप्य है।
नवीनतम साक्ष्यों के आधार पर इस रचना को अधिकाधिक सज्य बनाने का प्रयास किया गया है। इसका प्रत्येक अध्याय सम्यक् पठनीय तथा नवीन तथ्यों से भरपूर एवं ऋद्ध है। अद्यतन पुरातत्वीय साक्ष्यों से मंडित सटीक चित्रफलक, मानचित्र एवं युक्तियाँ विवेचन को अधिकाधिक प्रामाणिक, रोचक एवं सारगर्भित बनाने के उद्देश्य से यथास्थान संयुक्त है। आशा एवं विश्वास है कि अपने वर्तमान स्वरुप में यह अन्य पहले से अधिक उपादेय एवं अपने अभीष्ट की पूर्ति में सफल सिद्ध हो सकेगा।

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login