प्रार्थना के शिल्प में नहीं - देवीप्रसाद मिश्रा Prarthna Ke Shilp Mein Nahin - Hindi book by - Deviprasad Mishra
लोगों की राय

कविता संग्रह >> प्रार्थना के शिल्प में नहीं

प्रार्थना के शिल्प में नहीं

देवीप्रसाद मिश्रा

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2007
पृष्ठ :156
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13249
आईएसबीएन :9788180312564

Like this Hindi book 0

देवियो-देवताओ, हम आपसे जो कुछ कह रहे हैं प्रार्थना के शिल्प में नहीं !

इन्द्र, आप यहाँ से जायें तो पानी बरसे ! मरुत्, आप यहाँ से कूच करें तो हवा चले ! बृहस्पति, आप यहाँ से हटें तो बुद्धि कुछ काम करना शुरू करे ! अदिति, आप यहाँ से चलें तो कुछ ढंग की संततियाँ जन्म लें ! रुद्र, आप यहाँ से दफा हों तो कुछ क्रोध आना शुरू हो !
देवियो-देवताओ, हम आपसे जो कुछ कह रहे हैं प्रार्थना के शिल्प में नहीं ! -इसी पुस्तक से

लोगों की राय

No reviews for this book