श्री लीला रामायण - भानुशंकर मेहता Shri Leela Ramayan - Hindi book by - Bhanu Shankar Mehta
लोगों की राय

धर्म एवं दर्शन >> श्री लीला रामायण

श्री लीला रामायण

भानुशंकर मेहता

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :260
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13317
आईएसबीएन :9788180318566

Like this Hindi book 0

प्रस्तुत पुस्तक 'श्री लीला रामायण' में तुलसी की रामकथा है, उनका मानस है और गद्य-पद्य में उन्ही की पंक्तियाँ हैं

प्रस्तुत पुस्तक 'श्री लीला रामायण' में तुलसी की रामकथा है, उनका मानस है और गद्य-पद्य में उन्ही की पंक्तियाँ हैं। प्रत्येक प्रसंग का मानस के अनुसार स्वरूप दे दिया है। यदि लीला करनेवाले चाहें तो उनका कवित्त-छन्द रीति से शृंगार कर सकते हैं पर ध्यान रहे अतिरेक न हो, कथा का रस भंग न हो। क्षेपक जोड़ने से कथा का विस्तार होगा और यदि समय अनुमति दे तो वैसा कर सकते हैं। इस लीला-संग्रह में कोई दुराग्रह नहीं है, कोई बाध्यता नहीं है पर जो केवल तुलसी के रामचरितमानस को रूपायित करना चाहते हैं उनके लिए यह उपयोगी होगा। इसका पाठ आपको रामचरितमानस के संक्षिप्त पाठ का सुख देगा। राम जी की प्रेरणा से यह लिखा गया और उन्हीं के युगल चरणों में अर्पित है।
-श्री राम शरणं प्रपद्ये-

-भानुशंकर मेहता


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book