श्रीगीता जी की महिमा (गुजराती) - रामसिंह ठाकुर Siri Gita Jee Cho Mahema - Hindi book by - Ramsingh Thakur
लोगों की राय

विविध >> श्रीगीता जी की महिमा (गुजराती)

श्रीगीता जी की महिमा (गुजराती)

रामसिंह ठाकुर

प्रकाशक : लोकभारती प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2014
आईएसबीएन : 9788180319686 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :119 पुस्तक क्रमांक : 13322

Like this Hindi book 0

सिरी गिता जी चो महेमा के ए किताप भितरे भाइगमानी सिरी ठाकुर साहेब इतरो सुँदर साँगलासोत की एके पढ़तो लोग

सिरी गिता जी चो महेमा के ए किताप भितरे भाइगमानी सिरी ठाकुर साहेब इतरो सुँदर साँगलासोत की एके पढ़तो लोग एक हार पढ़ुक मुरयाला बल्ले हुन मन के किताप के छाँडुक नीं भायदे। मोके बिस्वास आसे की एके सब झन खुबे मन करदे आउर आपलो सँगे-सँगे आपलो घर-गाँव चो लोग मन के बले पढ़तो काजे साँगदे-बलदे। एचो सँगे-सँगे जे लोग पढ़ुक नीं सकोत नाहले नीं जानोत, असन मन के पढ़ुन भाती साँगतो बले पढ़लो-गुनलो लोग चो धरम आय। तेबेय ए किताप भितरे साँगलो गियान चो गोठ गुलाय बाटे बिगरेदे। फुल चो सुँदर बास असन गुलाय माहकेदे।

– हरिहर वैष्णव

To give your reviews on this book, Please Login