भोजपुरी संस्कार गीत और प्रसार माध्यम - शैलेश श्रीवास्तव Bhojpuri Sanskar geet Aur prasar Madhyam - Hindi book by - Shailesh Shrivastva
लोगों की राय

पत्र एवं पत्रकारिता >> भोजपुरी संस्कार गीत और प्रसार माध्यम

भोजपुरी संस्कार गीत और प्रसार माध्यम

शैलेश श्रीवास्तव

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2009
पृष्ठ :176
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13426
आईएसबीएन :9788183613095

Like this Hindi book 0

शैलेश जी ने लुप्त होते लोकगीतों को सुरक्षित रखने और इनके संरक्षण हेतु स्तुतनीय प्रयास किया है

भोजपुरी संस्कार गीत और प्रसार माध्यम लोकगीत माटी की महक हैं, संस्कारों के स्वर हैं, अन्तर की आवाज हैं। इनकी पूरी व्यापक धरोहर श्रव्य परम्परा में सिमटी हुई है। शैलेश जी ने लुप्त होते लोकगीतों को सुरक्षित रखने और इनके संरक्षण हेतु स्तुतनीय प्रयास किया है। वह स्वयं एक जानी-मानी गायिका हैं। कुछ लोकगीतों की स्वरलिपि व सी.डी. देने से पुस्तक का महत्त्व और बढ़ गया है। - गोपाल चतुर्वेदी

इस पुस्तक में संस्कार सम्बन्धी उत्सवों के अवसरों पर गाये जाने वाले भोजपुरी लोकगीतों का सामाजिक मूल्यांकन तथा उनके संरक्षण और प्रचार-प्रसार में संचार माध्यमों विशेषकर दूरदर्शन, आकाशवाणी की भूमिका पर एक संक्षिप्त अध्ययन प्रस्तुत किया गया है। कुछ लोकगीतों की स्वरलिपियाँ व धुनों की सी.डी. संलग्न हैं, जो संरक्षण की दिशा में एक सार्थक प्रयास है। - डॉ. विद्याविन्दु सिंह

शैलेश इन लोकगीतों को गाती नहीं, जीती हैं। इसलिए आधुनिकता के नाम पर लोकगीतों के विकृत स्वरूप उन्हें पीड़ा देते हैं। उनकी यह पुस्तक इस विकृति को समझने की उनकी एक सार्थक कोशिश है। - विश्वनाथ सचदेव

शैलेश श्रीवास्तव पिछले अनेक वर्षों से बिना अपनी दुंदुभी बजाए हुए हिन्दी के लोकसंगीत प्रेमियों के बीच पाश्चात्य संस्कृति के अन्धानुकरण के चलते अपनी जड़ों से उखड़ लगभग विलुप्ति के कगार पर आ खड़े हुए संस्कार गीतों की जन-मानस में पुनर्प्रतिष्ठा के लिए प्रयत्नशील हैं। बच्चे के जन्म पर गाए जाने वाले सोहर से लेकर मुंडन, छेदन, घुड़चढ़ी, लगुन भाँवरे; झूला (सावन), होली (फाग), टोना, नजर, सगुन, चैती, ठुमरी आदि सभी को उन्होंने अपना कंठ ही नहीं दिया है बल्कि सुदूर गाँव-ज़वार के ओने-कोने की यात्राएँ कर उन्हें बड़ी-बढ़ियों की कंठस्थ संचित पूँजी से बीन-चुन अपनी संगीत मंजूषा को निरन्तर समृद्ध भी किया है। प्रस्तुत शोध पुस्तक ‘भोजपुरी संस्कार गीत और प्रसार माध्यम’ उनकी श्रम-साध्य मेहनत का ही नतीजा है। - चित्रा मुद्गल

लोगों की राय

No reviews for this book