हिन्दी नाटक - बच्चन सिंह Hindi Natak - Hindi book by - Bachchan Singh
लोगों की राय

नाटक-एकाँकी >> हिन्दी नाटक

हिन्दी नाटक

बच्चन सिंह

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2008
आईएसबीएन : 9788171193455 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :214 पुस्तक क्रमांक : 13483

Like this Hindi book 0

नाटक एक श्रव्य-दृश्य काव्य है, अत: इसकी आलोचना के लिए उन व्यक्तियों की खोज जरूरी है जो इसके श्रव्यत्व और दृश्यत्व को एक साथ उद्घाटित कर सकें

नाटक एक श्रव्य-दृश्य काव्य है, अत: इसकी आलोचना के लिए उन व्यक्तियों की खोज जरूरी है जो इसके श्रव्यत्व और दृश्यत्व को एक साथ उद्घाटित कर सकें। वस्तु, नेता और रस के पिटे-पिटाए प्रतिमानों से इसका सही और नया मूल्यांकन संभव नहीं है और न ही कथा-साहित्य के लिए निर्धारित लोकप्रिय सिद्धांतों–कथावस्तु, चरित्र, देशकाल, भाषा, उद्देश्य से ही इसका विवेचन संभव है। प्रसाद के नाटकों में कुछ लोगों ने अर्थ प्रकृतियों, कार्यावस्थाओं और पंच संधियों को खोजकर नाट्यालोचन को विकृत कर रखा था। यह यंत्रगतिक प्रणाली किसी काम की नहीं है। इस पुस्तक में इन समीक्षा-पद्धतियों को अस्वीकार करते हुए पूर्व-पश्चिम की नवीनतम विकसित समीक्षा-सरणियों का आश्रय लिया गया है। लेखक का केंद्रीय विवेच्य है नाटक की नाट्यमानता। नाटक की भाषा हरकत की भाषा होती है, क्रियात्मकता की भाषा होती है। इसी से नाटक को विशिष्ट रूप मिलता है और वह सामाजिक-सांस्कृतिक सरोकारों को उजागर करती है। इसी से नाटककार की ऐतिहासिक विश्वदृष्टि का भी पता चलता है। हिंदी के कुछ शिखरों—अंधेर नगरी, स्कंदगुप्त, ध्रुवस्वामिनी, अंधायुग, लहरों के राजहंस, आधे-अधूरे पर विशेष ध्यान दिया गया है जो आज भी महत्त्वपूर्ण और प्रासंगिक हैं।

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login