मिथक और स्वप्न - रमेश कुंतल मेघ Mithak Aur Swapna - Hindi book by - Ramesh Kuntal Megh
लोगों की राय

आलोचना >> मिथक और स्वप्न

मिथक और स्वप्न

रमेश कुंतल मेघ

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2007
पृष्ठ :227
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13553
आईएसबीएन :9788183610841

Like this Hindi book 0

यह लिरिकल मुक्तकों के कदम्बवाला एक ‘गीत-कामायनीयम्’ है

मिथक और स्वप्न - इस पुस्तक में कई गवेषणाओं में से कुछेक: वैदिक आख्यान को शैवदर्शन में विश्रान्त करने, तथा कुछ सर्गों के सामाजिक-मनोवैज्ञानिक नामकरण के कारण ‘कामायनी’ में जिस प्रकार मानवता का इतिहास, मनुष्य का मनोवैज्ञानिक क्रमविकास, भारतीय दर्शन का आनन्दवादी उत्कर्ष संस्थापित करने के चलन हुए हैं, उन्हें त्रुटिपूर्ण, भ्रामक एवं अन्तरालों से असंगत पाया गया। पन्द्रह सर्गों के पाँच सर्ग-त्रिकोणों की संरचना वाली इस प्रबन्ध-गाथा में भारतीय और पाश्चात्य महाकाव्य-लक्षण अनुपस्थित हैं। यह लिरिकल मुक्तकों के कदम्बवाला एक ‘गीत-कामायनीयम्’ है। इसकी जीवनी का भी ‘कामना’ तथा ‘एक घूँट’ द्वारा विकास ढूँढ़ते हुए, तथा पांडुलिपि एवं प्रकाशित प्रति की तुलना और पाठालोचन करते हुए, प्रसाद की गूढ़ सृजन-प्रक्रिया भी उद्घाटित की गई है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book