निशाने पर - संतोष भारतीय Nishane Par - Hindi book by - Santosh Bhartiya
लोगों की राय

इतिहास और राजनीति >> निशाने पर

निशाने पर

संतोष भारतीय

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2005
आईएसबीएन : 8171199879 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :287 पुस्तक क्रमांक : 13575

Like this Hindi book 0

उस जमाने में हमने जमीन की पत्रकारिता की जिसका एक खास रिवोल्यूशनरी प्रभाव हुआ और जिसका असर बहुत दूर तक गया

जिस जमाने में हमने पत्रकारिता शुरू की उसके पहले या उस दौर में भी पत्रकारिता के जो विषय होते थे उनका अंदाजे-बयाँ साहित्यिक होता था। हमें बड़ी घुटन होती थी कि सच्चाई कहाँ है, देश कहाँ है और आप शब्दों में घूम रहे हैं, कविता में घूम रहे हैं और दुनिया कहाँ है? संतोष भारतीय, एस.पी. सिंह और उदयन शर्मा ने उस दौर में हिन्दी पत्रकारिता को उस साहित्यिक दरिया से निकाला और ‘रविवार’ के जरिए एक ऐसी जगह ले गए कि उसमें एक मैच्योरिटी जल्दी आ गई। उस जमाने में हमने जमीन की पत्रकारिता की जिसका एक खास रिवोल्यूशनरी प्रभाव हुआ और जिसका असर बहुत दूर तक गया। हमारा जो शुरुआती दौर था वो समय विरोधाभासों का भी था। हमारी पत्रकारिता पर आपातकाल का जो प्रभाव पड़ा उसकी भी बड़ी भूमिका थी क्योंकि हम भी एक लिबरेशन के साथ निकले थे। हम सब इतने पॉलिटिकल थे कि राजनीति में फँस गए पर खुशकिस्मती है कि निकल भी गए। पत्रकारिता ने हमें दोस्त बनाया और राजनीति ने अलग किया। अब चूँकि हम वापस पत्रकारिता में आ गए हैं इसलिए पुरानी दोस्ती का मौका मिला है। हम लोग चार थे: मैं, एस.पी., संतोष और उदयन - जिनमें से दो अब हमारे बीच नहीं हैं। सचमुच लगता है कि अगर चारों रहते तो हिन्दी पत्रकारिता में उसका एक गहरा प्रभाव होता। आज मुझे इस बात की बेहद खुशी है कि संतोष की पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं। - एम.जे. अकबर (प्रधान संपादक, एशियन ऐजश्)

अन्य पुस्तकें

To give your reviews on this book, Please Login