समाचार पत्र प्रबंधन - गुलाब कोठारी Samachar Patra Prabandhan - Hindi book by - Gulab Kothari
लोगों की राय

पत्र एवं पत्रकारिता >> समाचार पत्र प्रबंधन

समाचार पत्र प्रबंधन

गुलाब कोठारी

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2008
आईएसबीएन : 9788171198443 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :127 पुस्तक क्रमांक : 13621

Like this Hindi book 0

वैश्वीकरण की अदम्य आँधी ने समाचार-पत्रों को भी एक बाजार की वस्तु का रूप ग्रहण करने के लिए बाध्य कर दिया है

आज आम शिकायत यह है कि सम्पादक नाम की संस्था का लोप हो रहा है। जहाँ वह मौजूद है वहाँ या तो प्रतीकात्मक है या उसके कार्य-अधिकार, विवेक और निर्णय का दायरा घटता जा रहा है। वैश्वीकरण की अदम्य आँधी ने समाचार-पत्रों को भी एक बाजार की वस्तु का रूप ग्रहण करने के लिए बाध्य कर दिया है। ऐसी स्थिति में समाचार-पत्रों में प्रबन्धन की महत्ता और महिमा निरन्तर बढ़ती जा रही है। समाचार-पत्र का एक व्यावसायिक वस्तु बनकर रह जाना दर्दनाक हादसा है। बाजारजनित दृष्टिकोण के कारण समाज में समाचार-पत्र के स्थान, सम्मान और विश्वसनीयता में परिवर्तन की प्रक्रिया धीरे-धीरे चल रही है। इस माहौल में समाचार-पत्र प्रबन्धन के सम्बन्ध में एक ऐसी परिपक्व दृष्टि की जरूरत है जो बाजार की बढ़ती हुई ताकत की व्यावहारिक जरूरतों को ध्यान में रखते हुए उन बुनियादी मूल्यों पर अडिग रहने की कला, दृष्टि और शक्ति दे, जिसके कारण समाचार-पत्रों ने लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ का दर्जा पाया है। पत्रकारिता के पुरोधा गुलाब कोठारी की इस पुस्तक से यह सब मिल सकेगा, ऐसा विश्वास है।

To give your reviews on this book, Please Login