समाचार संपादन - कमल दीक्षित, महेश दर्पण Samachar Sampadan - Hindi book by - Kamal Dikshit, Mahesh Darpan
लोगों की राय

पत्र एवं पत्रकारिता >> समाचार संपादन

समाचार संपादन

कमल दीक्षित, महेश दर्पण

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2009
आईएसबीएन : 9788183613163 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :143 पुस्तक क्रमांक : 13622

Like this Hindi book 0

विश्वास है कि सम्पादक बनने के सपने को मूर्त रूप देने में बहुत सारे लागों के लिए यह पुस्तक पाथेय सिद्ध होगी।

समाचार सम्पादन हर युवा पत्रकार अपने मन में यथाशीघ्र सम्पादक बनने का सपना सँजोए रहता है। सम्पादन के कार्य की कई सीढिय़ाँ होती हैं। पहली सीढ़ी पर पहुँचने के बाद उसे अपने पहले काम से गुणात्मक रूप से भिन्न काम करना होता है। एक संवाददाता अपने आसपास की घटनाओं में से समाचार लायक घटनाओं को चुनकर उसे पाठक की दिलचस्पी के अनुरूप बनाता है। विशिष्ट घटना पर केन्द्रित करने की प्रतिभा इसका एक महत्त्वपूर्ण तत्त्व है। सम्पादन के लिए इससे अलग दृष्टि और कौशल की जरूरत होती है। इसमें समग्रता से देखने की प्रतिभा के साथ समग्र को एक पैटर्न में रखने और उसमें न आ पाने वाले समाचारों को अलग कर सकने के लिए जरूरी दृष्टि और कौशल काम आते हैं। समग्रता के साथ देखने के लिए जिस तरह की मनोवृत्ति की जरूरत है और काट-छाँट करने के लिए जिस तरह कठोर और बेरहम दिल की जरूरत है, वे किसी सीमा तक विरोधाभासी हैं। फिर भी इन दोनों के संयोग से ही अच्छा सम्पादन सम्भव है। मूलत: पत्रकार कमल दीक्षित ने पत्रकारिता के शिक्षक के रूप में भी प्रतिष्ठा अर्जित की है। सम्पादन का उन्हें लम्बा अनुभव है। अपनी परिपक्व दृष्टि से उन्होंने समाचार सम्पादन के दुरूह कार्य को सरल करने के लिए बड़े ही सहज ढंग से प्रभावी गुर इस पुस्तक में बताए हैं। युवा लेखक एवं पत्रकार महेश दर्पण ने 'ऑन लाइन एडिटिंगÓ की आवश्यकता को प्रभावशाली ढंग से रेखांकित किया है। इससे इस पुस्तक की उपादेयता और बढ़ी है। विश्वास है कि सम्पादक बनने के सपने को मूर्त रूप देने में बहुत सारे लागों के लिए यह पुस्तक पाथेय सिद्ध होगी।

To give your reviews on this book, Please Login