तो अंग्रेज़ क्या बुरे थे - रविन्द्र बड़गैयाँ To Angrej Kya Bure The - Hindi book by - Ravindra Badgaiya
लोगों की राय

हास्य-व्यंग्य >> तो अंग्रेज़ क्या बुरे थे

तो अंग्रेज़ क्या बुरे थे

रविन्द्र बड़गैयाँ

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2013
आईएसबीएन : 9788183615792 मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पृष्ठ :136 पुस्तक क्रमांक : 13649

Like this Hindi book 0

‘तो अंग्रेज क्या बुरे थे’ व्यंग्य-मिश्रित ललित गद्य का दिलचस्प उदाहरण है।

व्यंग्य आधुनिक साहित्य का अचूक अस्त्र है। विसंगतियों, विडंबनाओं और पाखंड आदि पर प्रहार करते समय इसका उपयोग अत्यन्त रोचक अभिव्यक्तियों को जन्म देता है। ‘तो अंग्रेज क्या बुरे थे’ व्यंग्य-मिश्रित ललित गद्य का दिलचस्प उदाहरण है। इस पुस्तक में विभिन्न विषयों, मुद्दों और प्रसंगों पर तेज-तर्रार टिप्पणियाँ हैं। लेखक रविन्द्र बड़गैयाँ की दृष्टि उन बिन्दुओं पर टिकी है जिन्हें प्रायः हम सब महसूस करते हैं। रविन्द्र सामान्य अनुभवों के बीच ऐसे अन्तराल खोज लेते हैं जहाँ से कटाक्ष झाँकते हैं, ठहाके झिलमिलाते हैं और बेचैन कर देनेवाली व्यंजनाएँ प्रकाशित होती हैं। इस पुस्तक में अनेक ऐसे वाक्य हैं जो व्यवस्था की विचित्र अवस्था का विश्लेषण करते हैं। जैसे ‘...सेवक को राजा बनाना आसान था पर राजा को वापस सेवक बनाना नामुमकिन।’ ऐसे कथनों के मूल में है सामाजिक मनोविज्ञान का सूक्ष्म ज्ञान। लेखक इसमें पारंगत लगता है। समग्रतः यह पुस्तक पाठक को मुस्कुराते हुए कुछ सोचने के लिए विवश करती है।

To give your reviews on this book, Please Login