उपभोक्ता अदालतें स्वरूप एवं संभावनाएं - प्रेमलता Upbhokta Adaltein Swaroop Evam Sambhavnaen - Hindi book by - Premlata
लोगों की राय

विविध >> उपभोक्ता अदालतें स्वरूप एवं संभावनाएं

उपभोक्ता अदालतें स्वरूप एवं संभावनाएं

प्रेमलता

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2004
आईएसबीएन : 9788171198184 मुखपृष्ठ : सजिल्द
पृष्ठ :151 पुस्तक क्रमांक : 13661

Like this Hindi book 0

इस पुस्तक के माध्यम से एक छोटा-सा प्रयास किया गया है कि हम उपभोक्ता के पास जा सकें, उन्हें यह सामान्य जानकारी दे सकें कि वास्तव में उपभोक्ता अदालतें हैं क्या?

अपार सम्भावनाओं से भरा उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम लगभग एक समानान्तर न्याय व्यवस्था का स्वरूप ग्रहण करता जा रहा है। उपभोक्ता इस कानून से अनभिज्ञ नहीं रह गया है तथापि इन अदालतों के स्वरूप, न्याय- प्रक्रिया आदि की विधिवत जानकारी के लिए अभी अपेक्षित पद्धति विकसित नहीं हो पाई है। कुछ गैर- सरकारी संस्थाएँ इस दिशा में मुखर हैं व इस अधिनियम के दैनंदिन सशक्तीकरण का बहुत श्रेय इन संस्थाओं को जाता है किन्तु अब स्थिति यह नहीं रही कि केवल जन-जागृति से ही सन्तोष कर लिया जाए। आवश्यकता अब इस बात की भी है कि उपभोक्ता कानूनों की शिक्षा भी अब विधिवत् रूप से शिक्षण संस्थाओं के माध्यम से दी जाए। इस आवश्यकता को सभी स्तरों पर अनुभव किया जा रहा है। इस पुस्तक के माध्यम से एक छोटा-सा प्रयास किया गया है कि हम उपभोक्ता के पास जा सकें, उन्हें यह सामान्य जानकारी दे सकें कि वास्तव में उपभोक्ता अदालतें हैं क्या? जब हम यह दावा करते हैं कि उपभोक्ता न्यूनतम खर्च करके बिना वकीलों के सहयोग के अपनी बात अपनी भाषा में स्वयं इस अदालत में रख सकता है तो उपभोक्ता के लिए पहली आवश्यकता यह जानने की हो जाती है कि कैसे और कहाँ? इन सभी प्रश्नों के समाधान के लिए इस पुस्तक को कैसे और कहाँ से ही प्रारम्भ किया गया है और फिर क्या- क्या, कितने विषय, कैसी शिकायतें - सब जानकारियों को सिलसिलेवार देने का प्रयास किया गया है।

To give your reviews on this book, Please Login