व्हाइट हाउस में रामलीला - आलोक पुराणिक White House Mein Ramleela - Hindi book by - Alok Puranik
लोगों की राय

हास्य-व्यंग्य >> व्हाइट हाउस में रामलीला

व्हाइट हाउस में रामलीला

आलोक पुराणिक

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :239
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13675
आईएसबीएन :9788183614207

Like this Hindi book 0

समसामयिक जीवन और समाज के विभिन्न पक्षों पर तीखी निगाह से दृष्टिपात करते ये व्यंग्य-लेख निश्चय ही पाठकों को लम्बे समय तक याद रहेंगे।

आलोक पुराणिक ने अपनी रचनाओं से व्यंग्य विधा को एक नया शिल्प और सौन्दर्य प्रदान कर विशिष्ट पहचान दी है। ‘व्हाइट हाउस में रामलीला’ उनका नवीनतम संग्रह है। इस व्यंग्य-संग्रह में उनकी आकार में छोटी दिखनेवाली टिप्पणियाँ विचार का एक बड़ा केनवस रचती हैं। आम आदमी की रोजमर्रा की पीड़ा से लेकर व विश्व फलक पर होनेवाली घटनाओं तक सबको उन्होंने इसमें समेटा है। आज की सामाजिक, राजनीतिक, धार्मिक, सांस्कृतिक व आर्थिक विडम्बनाओं का परत-दर-परत खोलते हुए व्यंग्यकार ने उन कारणों की ओर भी संकेत किया है जो इन स्थितियों के मूल में हैं। कुछ लेखों में धार्मिक आडम्बरों और ढोंगों पर भी व्यंग्य किया गया है जो लोगों की भावनाओं का लाभ उठाकर अपनी जेब भरते हैं। समसामयिक जीवन और समाज के विभिन्न पक्षों पर तीखी निगाह से दृष्टिपात करते ये व्यंग्य-लेख निश्चय ही पाठकों को लम्बे समय तक याद रहेंगे।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book