जाकिर साहब की कहानी उनकी बेटी की जुबानी - सईदा खुर्शीद आलम Zakir Saheb Ki Kahani Unki Beti Ki Zubani - Hindi book by - Sayeda Khursheed Alam
लोगों की राय

जीवनी/आत्मकथा >> जाकिर साहब की कहानी उनकी बेटी की जुबानी

जाकिर साहब की कहानी उनकी बेटी की जुबानी

सईदा खुर्शीद आलम

प्रकाशक : राधाकृष्ण प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2009
पृष्ठ :124
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13678
आईएसबीएन :9788183612944

Like this Hindi book 0

प्रस्तुत पुस्तक में ज़ाकिर साहब की जीवनी प्रारम्भ से लेकर अन्त तक दी गई है।

ज़ाकिर साहब के जीवन के अनेक पहलुओं को उजागर करनेवाली पुस्तक: ‘ज़ाकिर साहब की कहानी: उनकी बेटी की जु़बानी।’ लेखिका ने ज़ाकिर साहब को बहुत निकट से देखा है और उनके अन्तरंग जीवन को बड़े आदर के साथ परखा है। प्रस्तुत पुस्तक में ज़ाकिर साहब की जीवनी प्रारम्भ से लेकर अन्त तक दी गई है। उनकी ज़िन्दगी के अनेक उतार-चढ़ाव को मार्मिक स्पर्श दिया गया है। जहाँ इसमें ज़ाकिर साहब की चरित्रगत विशेषताओं पर प्रकाश डाला गया है, वहीं उनके कुछ महत्त्वपूर्ण संस्मरणों को भी रेखांकित किया गया है, जिनके माध्यम से ज़ाकिर साहब का व्यक्तित्व अपनी सम्पूर्ण आभा के साथ प्रस्फुटित होता है। इस पुस्तक की सबसे बड़ी खूबी है रोचकता के साथ इसकी प्रस्तुति। कहने का ढंग इतना निराला कि पढ़ते ही बनती है। हर आयु का व्यक्ति इसको पढ़कर जरूर आनन्द ले सकता है। किशोरों के लिए तो यह विशेष रूप से उपयोगी है। यह पुस्तक निश्चित रूप से उन्हें बहुत कुछ सोचने और आगे बढ़ने के लिए प्रेरणा के साथ-साथ देश का अच्छा और सच्चा नागरिक बनने की सूझबूझ, व्यापक उदार दृष्टि और राष्ट्रप्रेम प्रदान करेगी।

लोगों की राय

No reviews for this book