चाणक्य का नया घोषणा पत्र - पवन कुमार वर्मा Chanakya Ka Naya Ghoshna Patra - Hindi book by - Pawan Kumar Verma
लोगों की राय

लेख-निबंध >> चाणक्य का नया घोषणा पत्र

चाणक्य का नया घोषणा पत्र

पवन कुमार वर्मा

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :228
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13789
आईएसबीएन :9788126725625

Like this Hindi book 0

यदि दो हजार साल पहले चाणक्य जैसा कोई व्यक्ति, इन्हीं परिस्थितियों में परिवर्तन ला सकता था और प्रशासन का एक नूतन दृष्टिकोण रच सकता था, तो कोई कारण नहीं कि हम भी यह न कर सकें

लगभग 2500 वर्ष पहले, ईसा पूर्व चौथी सदी में, जब विश्व के अधिकांश भागों की सभ्यता अपनी शैशवावस्था में थी, चाणक्य नाम के एक विद्वान और विचारक ने ‘अर्थशास्त्र’ शीर्षक से एक ग्रन्थ लिखा, जो संसार में राजनीति पर सर्वाधिक गहन और सघन रचनाओं में से एक है। ‘अर्थशास्त्र’ में लगभग 6000 श्लोक और सूत्र हैं। यहाँ व्यवस्थित रूप से प्रभावशाली प्रशासन, लोककल्याण, आर्थिक समृद्धि, शासक के गुण, उसके मंत्रियों की योग्यता, अधिकारियों के कर्तव्यों, प्रशासनिक क्षमता, नागरिक दायित्व, कानून के शासन का महत्त्व, प्रभावी न्याय व्यवस्था, भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के तरीके, दंडनीति अथवा अपराधियों को दण्डित करने की निति, विदेशनीति के संचालन, युद्ध की तैयारी और संचालन, गठबन्धनों की निति और अन्य बातों पर राष्ट्रीय हितों की सर्वोपरिता की चर्चा की गई है। यह निश्चित रूप से वही क्षेत्र हैं, जिनमें अपेक्षाकृत नवस्वतंत्र गणतंत्र भारत लगता है की राह से भटका हुआ है। किन्तु यदि दो हजार साल पहले चाणक्य जैसा कोई व्यक्ति, इन्हीं परिस्थितियों में परिवर्तन ला सकता था और प्रशासन का एक नूतन दृष्टिकोण रच सकता था, तो कोई कारण नहीं कि हम भी यह न कर सकें और इस पुस्तक का प्रतिपाद्य भी यही है। क्षुद्र अहंमन्यता, बौद्धिक विशिष्टता या पक्षधर संकीर्णता से परे इसका उद्देश्य केवल यह है कि ‘परिवर्तन’ के लिए राष्ट्रव्यापी रूप से तत्काल और गहन बहस की शुरुआत हो सके।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book