देवतुल्य नास्तिक - अरुण भोले Devtulya Nastik - Hindi book by - Arun Bholey
लोगों की राय

धर्म एवं दर्शन >> देवतुल्य नास्तिक

देवतुल्य नास्तिक

अरुण भोले

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :191
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13818
आईएसबीएन :9788126725991

Like this Hindi book 0

विश्व संस्कृति की अन्तर्धाराओं का प्रवाहपूर्ण, प्रामाणिक और सतर्क विश्लेषण।

धर्म, दर्शन और विज्ञान अपने-अपने तरीके से सत्य और ज्ञान की खोज करते रहते हैं। स्थूल रूप से इनकी चेष्टाएँ विरोधी प्रतीत हो सकती हैं, लेकिन गहरे मन्तव्यों में लक्ष्य एक ही है। आस्तिक और नास्तिक केवल व्यावहारिक विभाजन हैं—प्रक्रिया की भिन्नता के कारण। 'देवतुल्य नास्तिक पुस्तक में अरुण भोले कुछ विशिष्ट व्यक्तित्वों के माध्यम से जीवन के रहस्यों को जानने का प्रयास करते हैं। 'ज्ञानपिपासु गौतम', 'अन्तर्मुखी विज्ञान', 'तटस्थ प्रकृति', 'वैज्ञानिक ज्ञान-मीमांसा', 'सन्देह और श्रद्धा के संगम', 'संवाद और सहयोग', 'जले दीप से दीप' तथा 'विज्ञान और नियति' शीर्षकों के अन्तर्गत लेखक ने सत्य और ज्ञान की खोज करने वाले विश्वविख्यात व्यक्तित्वों का विश्लेषण किया है। लेखक का उद्देश्य स्पष्ट है। वह चाहता है कि शक्तियों में समन्वय हो। लेखक के शब्दों में : 'अपने अन्वेषण और प्रयोगों से विज्ञान ने जो तथ्य बटोरे हैं, उन सबके आत्यंतिक अर्थ क्या हैं तथा लोकमंगल की दृष्टि से उनका परम उपयोग क्या होगा, इसी का बोध ज्ञान माना जाएगा। वैसे ज्ञान के अभाव में अमर्यादित वैज्ञानिक जानकारियाँ हमें सर्वनाश की ओर ले जा सकती हैं। यही वह स्थल है जहाँ हमें धर्म और दर्शन की सहायता लेनी पड़ेगी; क्योंकि वैज्ञानिक भी मानते हैं कि जीवन को सँवारने और मानवीय भावनाओं को प्रभावित करने का अधिक अभ्यास और अनुभव दर्शन और धर्म को ही है।' विश्व संस्कृति की अन्तर्धाराओं का प्रवाहपूर्ण, प्रामाणिक और सतर्क विश्लेषण।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book