डॉ लोहिया का समाजवाद - रामगोपाल यादव Dr. Lohia Ka Samajwad - Hindi book by - Ramgopal Yadav
लोगों की राय

लेख-निबंध >> डॉ लोहिया का समाजवाद

डॉ लोहिया का समाजवाद

रामगोपाल यादव

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2015
पृष्ठ :272
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13839
आईएसबीएन :9788126728770

Like this Hindi book 0

यह लोहिया जी के व्यक्तित्व और उनकी निज परिमार्जित की हुई विचारधारा और उनके योगदान सब पर समुचित प्रकाश डालती है।

भारतीय समाजवाद के आकाश में डॉ. राममनोहर लोहिया का उदय एक एतिहासिक घटना थी। उनका सम्पूर्ण जीवन सदियों से उपेक्षित रहे लोगों के प्रति समर्पित था-फिर चाहे वह किसी भी धर्म, जाति या वर्ग का हो। यही कारन है कि समाजवाद के पुरोधा के रूप में उनका नाम हमेशा अग्रणी रहा हैं। समाजवादी चिन्तक प्रो. रामगोपाल यादव द्वारा प्रणीत यह पुस्तक डॉ. लोहिया के अक्षय व्यक्तित्व एवं कृतित्व का बहुआयामी मूल्यांकन प्रस्तुत करती है। डॉ. लोहिया की वैश्विक दृष्टि की व्यापकता का संज्ञान कराती एवं सामाजिक-राजनितिक क्षेत्र में परिवर्तन के अग्रदूत के रूप में उन्हें प्रतिष्ठित करती हुई यह कृति एक नया चिंतन प्रस्तुत करती है। डॉ. लोहिया का जीवन-संघर्ष निरंतर सामाजिक या उत्थान्वादी चेतना के द्वन्द को रूपायित करता है। आर्थिक गैर - बराबरी दूर करने और समतामूलक समाज बनाने में उनका चिंतन मार्क्सवादियों से भिन्न था। भारतीय समाजवाद के प्रवर्तक डॉ. लोहिया की 105वीं जयंती के उपलक्ष्य में प्रो. यादव द्वारा रचित इस किताब की उपादेयता समाजवाद के विकास की दिशा में एक अमूल्य योगदान है। यह लोहिया जी के व्यक्तित्व और उनकी निज परिमार्जित की हुई विचारधारा और उनके योगदान सब पर समुचित प्रकाश डालती है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book