हमज़मीन - अवधेश प्रीत Hamzamin - Hindi book by - Avadhesh Preet
लोगों की राय

कहानी संग्रह >> हमज़मीन

हमज़मीन

अवधेश प्रीत

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2006
पृष्ठ :134
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13880
आईएसबीएन :9788126726608

Like this Hindi book 0

अवधेश प्रीत उन थोड़े से कथाकारों में हैं जो यथार्थ की भीतरी तह तक पहुँच कर उसकी आन्तरिक गतिशीलता को उजागर करते हैं।

अवधेश प्रीत उन थोड़े से कथाकारों में हैं जो यथार्थ की भीतरी तह तक पहुँच कर उसकी आन्तरिक गतिशीलता को उजागर करते हैं। उनकी कहानियों में जीवन के गहरे अनुभव के साथ-साथ समाज में होने वाले परिवर्तनों के संकेत भी मिलते हैं। विसंगतियों और विडम्बनाओं का चित्र उकेरते वक्त उनकी नजर हमेशा उन वंचितजनों पर टिकी होती है, जो अपनी स्थिति से उबरने तथा समाज के बदलने के लिए संघर्ष कर रहे होते हैं। सपाटबमानी से बचते हुए अवधेश अपने एक-एक अनुभव को पहले वैचारिक धरातल पर सूत्रबद्ध करते हैं, फिर उनके कलात्मक संग्रंथन से ऐसी फंतासी रचते हैं जिसमें किरदारों के आत्मसंघर्ष तथा सामाजिक संघर्ष के बीच की विभाजक रेखा मिट जाती है। उनका यह शिल्प ही उन्हें अपने समकालीनों से अलग करता है। हमज़मीन उनका तीसरा कथा संग्रह है। इस संग्रह की कहानियों में उन्होंने सांप्रदायिक और सामंती क्रूरताओं के शिकार वंचितों तथा स्त्रियों की पीड़ाओं के चित्रण के साथ-साथ उनके संघर्ष और जिजीविषा को रेखांकित करने का भी सार्थक प्रयास किया है।


अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book